पेट नहीं होगा खराब और डाइजेशन भी रहेगा दुरुस्त, खाते रहें ये आहार

स्वस्थ और फिट रहने की कुंजी दुरुस्त पाचन क्षमता से जुड़ी है। मगर, भागदौड़ वाली जीवनशैली और अनियमित खान-पान के कारण आजकल बहुत से लोग पाचन समस्याओं से ग्रस्त रहते हैं। एसिडिटी, कब्ज, पेट दर्द, बदहजमी जैसी पाचन समस्याओं अगर नियमित रहने लग जाए तो शरीर को कई बीमारियों का खतरा रहता है। लंबे समय तक कब्ज के कारण बवासीर हो सकती है। ऐसे में पाचन क्रिया को दुरुस्त रखना बहुत जरूरी है। आज हम आपको कुछ ऐसे फूड्स के बारे में बताएंगे, जिनका नियमित सेवन पाचन क्रिया को दुरुस्त रखता है और बीमारियों से भी बचाता है।

आंवला

आयुर्वेद के अनुसार, आंवला जूस एसिडिटी और सीने में जलन से राहत दिलाने में काफी कारगर होता है। आंवले का रस 15-20 मिली लें। बराबर मात्रा में पानी डालें। इसे रोज सुबह खाली पेट लें।

बेल का शरबत

एक्सपर्ट के मुताबिक, इसमें बहुत सारा फाइबर होता है, जो पाचन में सुधार करता है। आप बेल का शरबत बनाकर पी सकते हैं या इसे रोजाना खा सकते हैं।

एलोवेरा

इरिटेबल बोवेल सिंड्रोम और एसिड रिफ्लक्स वाले लोगों के लिए एलोवेरा जूस बेहद फायदेमंद होता है। एलोवेरा जूस 1ध्4 कप को 1ध्2 कप पानी के साथ रोजाना सुबह खाली पेट लें।

छाछ

गंभीर कब्ज, अपच या एसिडिटी के इलाज के लिए छाछ एक बेहतरीन आयुर्वेदिक इलाज है। सुबह खाली पेट या भोजन के बाद 1 गिलास छाछ पीने की आदत डालें। आप इसमें त्रिफला पाउडर भी मिला सकते हैं।

इसबगोल (पिस्सू के बीज)

इसबगोल का इस्तेमाल कब्ज से राहत पाने के लिए किया जाता है। 1 गिलास गर्म दूध में 1 चम्मच इसबगोल मिलाकर रोज रात को सोने से पहले पिएं।

त्रिफला

त्रिफला 3 जड़ी बूटियों हरीताकी, आंवला और बेजदा का मिश्रण है, जो पाचन स्वास्थ्य में सुधार और कब्ज को रोकने के लिए बहुत अच्छा है।