----- तीखा तीर ----

मार्च  दस  बतलायेगी  

किसके दावे  में है दम 

प्रचार बिना कैसे  होगा 

सोच  है  इनकी    कम 

पैसे बालों का इलेक्सन 

निर्धन  की  नहीं  है दम 

लोकतंत्र  जकड गया है 

लोगों  को  इसका  गम 

------ वीरेन्द्र  तोमर