विनीत नारायण के खिलाफ साधु-संतों में रोष

मथुरा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बारे में असभ्य टिप्पणी करने वाले पत्रकार विनीत नारायण को लेकर वृंदावन के साधु संत समाज में आक्रोश पनप गया है। साधु संतों के साथ-साथ प्रतिष्ठित नागरिकों ने उनके खिलाफ शासन प्रशासन से कार्रवाई की मांग की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की निंदा करने से आहत हुए संतो ने आज वृंदावन के गांधी मार्ग स्थित श्रोत मुनि आश्रम में एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता अखिल भारतीय चतु: संप्रदाय के श्री महंत फूलडोल बिहारी दास महाराज ने की। उन्होंने बताया कि आज वृंदावन के समस्त साधु जन, सन्यासियों, कथा वाचको एवं विद्धत जनों ने एक स्वर में पत्रकार विनीत नारायण का बहिष्कार करने की बात कही है। नागेंद्र महाराज ने कहा विनीत नारायण अपने अनर्गल प्रलाप से न सिर्फ वृंदावन के साधुओं, सन्यासियों में विष का बीज बोना चाहते हैं, बल्कि उनकी भाषा से ऐसा लगता है कि भारत एवं विश्व के सनातन धर्म क्यों को आपस में लड़ा बनाकर सब कुछ नष्ट करने को आतुर है। संजीव कृष्ण ठाकुर जी ने कहा विनीत नारायण की ऐसी कलुषित मानसिकता के चलते समाज में धार्मिक विद्वेष पनपने की आशंका उत्पन्न होती है। बैठक में हरि शंकर शर्मा स्वामी शिवानंद ,संत गिरी नागा बाबा, गोविंदानंद तीर्थ,विमल चेतन्य व गोपेश्वर नाथ चतुर्वेदी,कृष्ण चंद्र शास्त्री ठाकुर जी, स्वामी राम देव आनंद जी, महंत राम स्वरूप दास, स्वामी भास्करानंद, स्वामी रामानंद शास्त्री, सदानंद जी, आचार्य अमित कृष्ण,महन्त रामेश्वर दास, महंत राघव दास ,रामायणी केशवदास, राजेश किशोर गोस्वामी,प्रहलाद दास देवरा बाबा आश्रम,देवांशु गोस्वामी, राजू द्विवेदी, श्याम सुंदर व स्वामी सुरेशानंद आदि ने अपने विचार रखे हैं।