नए साल के अवसर पर अमृतसर पहुंचे अरविंद केजरीवाल, रामतीर्थ मंदिर में हुए नतमस्तक

अमृतसर : आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल शनिवार को नए साल के अवसर पर अमृतसर पहुंचे और रामतीर्थ मंदिर में नतमस्तक हुए। उन्होंने कहा कि आज इस पवित्र स्थान पर मैं वादा करता हूं कि अगर हम पंजाब में सरकार बनाएंगे, तो अनुसूचित जाति समुदाय के हर बच्चे को सर्वोत्तम शिक्षा प्रदान की जाएगी। उनके साथ पंजाब प्रधान भगवंत मान और पंजाब के सह प्रभारी राघव चड्ढा भी थे। बाद में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने वाल्मीकि तीर्थ पर कसम खाते हुए वाल्मीकि समाज के लिए चार घोषणाएं की। इसमें विशेष रूप से वाल्मीकि तीर्थ बोर्ड को हटाकर कमेटी बनाने, सफाई कर्मचारियों को पक्का करने, सीवरेज के अंदर घुस कर काम करने वाले कर्मचारियों को मशीनें उपलब्ध करवाने और एससी भाईचारे के लोगों के बच्चों को अच्छी शिक्षा देना शामिल है। 

केजरीवाल 30 दिसंबर को चंडीगढ़ पहुंचे थे। वहां उन्होंने निगम चुनाव में जीत के लिए धन्यवाद करने के लिए विजय मार्च निकाला था। साल के आखिरी दिन उन्होंने कैप्टन अमरिंदर सिंह के गढ़ पटियाला में शांति मार्च निकाला था। 

चंडीगढ़ निगम चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनने के बाद से अरविंद केजरीवाल काफी उत्साहित हैं। शुक्रवार को पटियाला में शांति मार्च के सहारे केजरीवाल बेअदबी के मुद्दे पर बड़ा दांव खेल गए। उन्होंने कहा कि चुनावों से पहले पंजाब के दुश्मनों ने गंदी हरकतें शुरू कर दी हैं। लेकिन शांति भंग करने वालों के मंसूबे पंजाब के लोग कामयाब नहीं होने देंगे। केजरीवाल ने कहा कि कुछ दिन पहले श्री दरबार साहिब में बेअदबी की कोशिश की गई। जिस व्यक्ति ने इसे अंजाम दिया, उसे किसने भेजा था। 

घटना के पीछे मास्टरमाइंड कौन था। चन्नी सरकार ने 48 घंटे में मामले का पर्दाफाश कर आरोपियों तक पहुंचने का दावा किया था, 10 दिन से ज्यादा होने पर भी अभी तक मास्टरमाइंड पकड़ा नहीं गया। इसी तरह से लुधियाना बम धमाके का भी मास्टरमाइंड नहीं पकड़ा गया। केजरीवाल ने आगे कहा कि इसी तरह से 2017 में पिछले विधानसभा चुनावों के समय भी मौड़ मंडी में बम ब्लास्ट किया गया। 

2015 में बरगाड़ी में बेअदबी की गई। केजरीवाल ने कहा कि अगर 2015 के मास्टरमाइंड को बेअदबी की सजा दी जाती तो दोबारा ऐसा करने की किसी की हिम्मत नहीं थी। केजरीवाल ने कहा कि पंजाब के माहौल, यहां की भाईचारक सांझ और शांति को दोबारा बर्बाद करने की कोशिश की जा रही है।