सरस संगीतमयी श्री राम कथा सुनकर भक्तगण हुए भाव-विभोर

गोण्डा। स्थानीय गरीबीपुरवा बूढादेवर में श्री लक्ष्मी ज्ञानयज्ञ एवं संगीतमय रामकथा का भव्य आयोजन किया गया। काली माता मंदिर में चल रहे इस कार्यक्रम के छठवें दिन भगवान श्री राम के विवाह का वर्णन किया गया। कथा व्यास साध्वी दिव्यांशी पारासर श्रीधाम अयोध्या ने भगवान राम और माता जानकी के विवाह का प्रसंग का वर्णन किया और झांकी भी निकली गई। साध्वी जी ने श्रीराम की महिमा का बखान करते हुए धनुष भंजन, परशुराम लक्ष्मण संवाद एवं श्रीराम सीता विवाह का भावपूर्ण वर्णन किया जिसे सुनकर श्रोता भाव विभोर हो गए। उन्होंने आगे कहा कि जब विश्वामित्र ने संपूर्ण उत्तर भारत को दुष्टजनों से श्रीराम द्वारा मुक्त करा लिया व सभी ऋषि मुनि वैज्ञानिकों के यज्ञ सुचारु रूप से होने लगे तो विश्वामित्र श्रीराम को जनकपुरी की ओर ले गए, जहा पर सीता स्वयंवर चल रहा था। सहित अन्य श्रोतागण उपस्थित रहे।