जलालाबाद में गंदगी के ढेरो का अंबार

कन्नौज। कस्बा जलालाबाद में ग्राम प्रधान ब पंचायत सचिव की मनमानी से ग्रामीण परेशान है नालियों की निकाली गई सिल्ट एक सप्ताह बीतने के बाद भी नहीं हटाई गई । कस्बा में अधिकांश जगह पर नालियों की आज तक सफाई भी नहीं हुई है । ग्राम प्रधान की दबंगई के चलते कोई भी ग्रामीण शिकायत करने की हिम्मत नहीं जुटा पाता जिससे ग्राम प्रधान एवं पंचायत सचिव के हौसले बुलंद हैं और वह अपनी मनमानी कर रहे हैं।

नालियों की पहले तो साफ सफाई नहीं की जाती अगर साफ-सफाई किसी मोहल्ले में करा दी गई तो नालियों से निकलने वाला कीचड़ तो तब तक नहीं हटाया जाता जब तक होश में है एक दो बार गिर ना जाए या कीचड़ उसी में ना  बह जाएं। जो तस्वीर आप देख रहे हैं वह तस्वीर आसमा के हरदेव पुरवा की है जहां नाली कुछ जगह सांप की गई उसके 1 सप्ताह बीत जाने के बाद भी नहीं हटाई गई और दूसरी जगह सफाई कर्मियों को लगा दिया गया है इससे ग्रामीणों को काफी दिक्कतों से सामना करना पड़ रहा है। दबंग ग्राम प्रधान का कहना है कि जिसे जो शिकायत करनी हो कर ले वीडियो सहित कई अधिकारी हमारे घर चाय पीने आते जाते हैं आखिर जांच तो इन्हीं के पास जाएगी क्या होगा जहां वोट नहीं मिला काम नहीं कराया जाएगा।

कस्बा की वज बजाती नालिया एवं जगह-जगह कूड़े के ढेर पहचान बनते जा रहे हैं। चाहे गंदगी के मामले में बाजार मोहल्ला हो या डाकखाना वाली गली या अंबेडकर मोहल्ला हरदेव पुरवा चारों तरफ गंदगी ही गंदगी दिखाई देगी। अभी इस ओर जिम्मेदारों की भी नजर नहीं पड़ रही है जबकि साफ सफाई की ओर सरकार भी कितनी गंभीर है। लेकिन जिम्मेदारो की खामोशी उनकी बेबसी बयां करती है कि वह कितने बेबस है।