उच्च शिक्षा में सहयोग के लिये ‘विद्यांजलि उच्च शिक्षा स्वयंसेवक कार्यक्रम’ शुरू

नई दिल्ली: शिक्षा मंत्रालय ने देश की उच्च शिक्षा प्रणाली में अकादमिक, प्रशिक्षण एवं आधारभूत ढांचे को मजबूत बनाने में योगदान के लिये स्वयंसेवकों का एक समूह तैयार करने के उद्देश्य से ‘विद्यांजलि उच्च शिक्षा स्वसंसेवक कार्यक्रम’ शुरू किया है। मंत्रालय के एक अधिकारी ने ‘भाषा’ को बताया कि अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) के सहयोग से तैयार इस कार्यक्रम में स्वयंसेवक एवं संस्थान दोनों पंजीकरण करा सकते हैं। इसका उद्देश्य उच्च शिक्षा के स्तर पर छात्रों, शिक्षकों एवं संस्थानों को सहयोग प्रदान करना है जिसमें समुदाय, निजी एवं सार्वजनिक क्षेत्र, स्वयंसेवी संस्थान, प्रवासी भारतीय, भारतीय मूल के लोग आदि हिस्सा ले सकते हैं। विद्यांजलि उच्च शिक्षा स्वसंसेवक कार्यक्रम के लिये स्वयंसेवकों और संस्थानों को पहले पंजीकरण कराना होगा जिसके बाद वे संबंधित उच्च शिक्षण संस्थाओं से सीधे चर्चा कर अपने ज्ञान एवं कौशल के आधार पर योगदान के बारे में बात कर सकते हैं । स्वसंसेवक संबंधित संस्थानों को उपकरण एवं सामान दान स्वरूप देकर भी मदद कर सकते हैं। इस बारे में पूछे जाने पर एआईसीटीई के उपाध्यक्ष प्रो. एम पी पुनिया ने बताया, ‘‘ यह उच्च शिक्षा के क्षेत्र में शिक्षा मंत्रालय की एक महत्वपूर्ण पहल है जिससे करीब चार करोड़ छात्रों को फायदा होगा। सरकार और समाज के सम्मिलित प्रयास से शिक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर भारत के प्रयासों को मजबूती मिलेगी। ’इस कार्यक्रम के जरिये दुनिया में फैले भारतीय समुदाय के लोग, युवा पेशेवर, सेवानिवृत, कार्यरत शिक्षक एवं अधिकारी, स्नातकोत्तर या पीएचडी स्तर के छात्रों सहित विभिन्न क्षेत्र से स्वयंसेवक उच्च शिक्षण संस्थानों से जुड़ सकते हैं। कार्यक्रम के अनुसार, इच्छुक स्वयंसेवक अपने कौशल एवं विशिष्ट सेवाओं के बारे में संस्थानों को बतायेंगे । संस्थान भी अपनी जरूरत की जानकारी देंगे । इसके तहत 27 प्रकार की अकादमिक गतिविधियों को चिन्हित किया गया है। इसमें आधारभूत संरचना के विकास में सहयोग, शिक्षकों के लिये कक्षा संबंधी उपकरण तथा डिजिटल ढांचे संबंधी सहयोग को शामिल किया गया है। इसके अलावा सिविल एवं बिजली संबंधी ढांचे में भी सहयोग किया जा सकता है।