संयुक्त शिक्षा निदेशक का घेराव कर प्रदर्शन किया

सहारनपुर। मान्यता प्राप्त विद्यालय शिक्षक संघ से जुड़े शिक्षकों ने आज संघ प्रदेश अध्यक्ष  उा.अशोक मलिक के नेतृत्व में संयुक्त शिक्षा निदेशक का घेराव कर जोरदार नारेबाजी कर प्रदर्शन किया तथा वरिष्ठ लिपिक श्रीवर्धन यादव को अन्यत्र स्थानान्तरित किए जाने की मांग दोहरायी।

प्रदर्शनकारियों को सम्बोधित करते हुए डा. अशोक मलिक ने कहा कि जनपद में गत 20 वर्षों से जनपद सहारनपुर में 8 वर्ष से 1 ही सीट पर नियम विरूद्ध भ्रष्ट लिपिक श्रीवर्धन यादव मान्यता सम्बन्धी महत्वपूर्ण कार्य सहित परिषदीय चयन वेतनमान एडेड स्कूलों की नियुक्तियां लेखा सम्बन्धी वेतन पेंशन बनाना महत्वपूर्ण काय्र दिया गया है। उक्त भ्रष्ट लिपिक ने एक भ्रष्ट प्रधानाचार्य देशदीपक डाबरे सहित अन्य कई जांच पत्रावली भी गायब कर दी गई है। उक्त के सम्बन्ध में नियम 115 के अंतर्गत विधान परिषद में माननीय डा.जयपल सिंह व्यस्त एम.एल.सी(विधायक) ने कठोर कार्यवाही करने के लिए प्रश्न उठाया गया था। इससे पूर्व दूसरे एम.एल.सी.देवेन्द्र प्रताप ंिसह ने अपने पत्र दिनांक 11.12.2020 को महानिदेशक बेसिक शिक्षा निदेशालय उत्तर प्रदेश से स्थानान्तरण के साथ-साथ प्रशासनिक कठोर कार्यवाही करने का अनुरोध किया गया था। इन सब कार्यवाही के उपरान्त भी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने नवीन मान्यताओं की पत्रावली का कार्य देकर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है। आर.टी.ई. के अंतर्गत 25 प्रतिशत निःशुल्क गरीब बच्चों को वर्ष 2016-17 से 2019-20 तक आधा 

अधूरा फीस प्रतिपूर्ति दी गयी थी। 2020-21 का फीस प्रतिपूर्ति सहित गत वर्षों का लगभग 10 करोड़ बकाया है। इसलिए अविलम्ब फीस प्रतिपूर्ति का भुगतान किया जाये अन्यथा हम मजबूर होकर उक्त निःशुल्क बच्चों को स्कूल से बाहर निकालने के लिए बाध्य होंगे। इस सत्र के प्रवेश नहंी लिये जायेंगे जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेदार जिला प्रशासन की होगी।

प्रदेश सचिव अमजद अली व डा.समरीना फातमा ने कहा कि निजी स्कूलों से गूगल ऐप पर स्कूल के यूडाइस कोड मंे अध्यापकों व अन्य का जो ब्यौरा  मांगा जा रहा है, हिन्दी मीडियम के मान्यता प्राप्त स्कूलों के लिए अनुचित है, जिससे मध्यम, गरीब दुर्बल वर्ग के बच्चों को पढ़ाने में परेशानी होगी। इस प्रकार हिन्दी मीडियम स्कूलों को गूूगल ऐप ब्यौरे से मुक्त रखा जाये।

महामंत्री अरविंद शर्मा व मण्डल अध्यक्ष अशोक सैनी ने कहा कि त्रिभाषा संस्कृत अध्यापक आज भुखमरी के कगार पर है तत्काल अध्यापक का मानदेय बहाल किया जाना चाहिए। प्रदर्शनकारियों मे मुख्य रूप से मनोज मलिक, राजेश कुमार, संजय सिंह, सत्यपाल सिंह पुण्डीर, अमजद अली एड. विरेन्द्र पंवार, के.पी.सिंह, शबाना सिदिदकी, खदीजा तौकिर आदि शामिल रहे।