देश में एक बार फिर तेजी से बढ़ रहे कोरोना वायरस के मामले, मुंबई में जल्द लग सकता है लॉकडाउन, दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू

नई दिल्ली : देश में कोरोना वायरस के मामले एक बार फिर तेजी से बढ़ रहे हैं। कोरोना का नया और अधिक संक्रामक वैरिएंट ओमिक्रॉन भी तेजी से फैल रहा है और हालात जल्द ही तीसरी लहर की ओर इशारा कर रहे हैं। इसी के साथ दुनिया भर के देशों के साथ भारत में भी प्रतिबंधों के दौर की फिर से शुरुआत हो गई है। दूसरी लहर की तरह इस बार भी राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली और महाराष्ट्र सबसे ज्यादा प्रभावित दिख रहे हैं। 

प्रतिबंधों की बात करें तो दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू की शुरुआत कर दी गई है और वर्क फ्रॉम होम की व्यवस्था एक बार फिर लागू की जा रही है। मुंबई में कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए जल्द ही लॉकडाउन लग सकता है। वहीं, पंजाब, झारखंड, राजस्थान और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में शिक्षण संस्थानों को बंद कर दिया गया है। इसके साथ ही रात्रि कर्फ्यू समेत अन्य कई प्रतिबंध भी लागू किए गए हैं।

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने मंगलवार को कहा कि अगर शहर में कोरोना के मामले 20 हजार का आंकड़ा पार कर जाते हैं तो यहां केंद्र सरकार के नियमों के अनुसार लॉकडाउन लागू किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोई नहीं चाहता कि लॉकडाउन लगे, अगर लॉकडाउन फिर से लगा तो यह सबको बुरी तरह प्रभावित करेगा। लेकिन अगर कोविड के मामले 20 हजार से ऊपर डाते हैं तो लॉकडाउन लगाया जाएगा।

मेयर ने लोगों से अपील की है कि सार्वजनिक बसों और लोकल ट्रेन में सफर करते समय तीन परत वाला मास्क पहनें। जिन्होंने टीका नहीं लगवाया है वह तुरंत टीका लगवाएं और कोरोना संबंधी सभी नियमों का गंभीरता के साथ पालन करें। मेयर ने आगे कहा कि अगर विवाह समारोह आयोजित होते हैं तो उन्हें नियमों के अनुसार करें और यह सुनिश्चित करें कि इस तरह के कार्यक्रम महामारी के सुपर-स्प्रेडर न बनने पाएं।

दिल्ली सरकार ने ओमिक्रॉन के मामलों के तेजी से प्रसार के बीच मंगलवार को सप्ताहांत पर कर्फ्यू लगाने का फैसला किया है। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इस फैसले की जानकारी देते हुए बताया कि  शनिवार और रविवार को कर्फ्यू रहेगा। इसके अलावा आवश्यक सेवाओं के अलावा सभी सरकारी कर्मचारी घर से काम करेंगे। निजी कार्यालयों को 50 फीसदी की क्षमता के साथ काम करने की अनुमति दी गई है। 

हालांकि, मेट्रो और बसों का पूर्ण क्षमता के साथ संचालन जारी रखा जाएगा। सिसोदिया ने बताया कि मेट्रो स्टेशनों और बस स्टॉप पर बैठनी की क्षमता आधी करने से वहां लंबी पंक्तियां लग रही हैं। सरकार को आशंका है कि बस स्टॉप और मेट्रो स्टेशन संक्रमण के तेजी से फैलने का केंद्र बन सकते हैं, ऐसे में इन्हें पूरी क्षमता से चलाया जाएगा। उन्होंने कहा, किसी को भी बिना मास्क यात्रा करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

दिल्ली में संक्रमण की दर पांच फीसदी के पार चले जाने के बाद डीडीएमए (दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण) ने 28 दिसंबर को 'येलो अलर्ट' की घोषणा की थी। इसके तहत दिल्ली में सभी सिनेमाघर और जिम बंद कर दिए गए थे। डीडीएमए की योजना अनुसार पांच दिन तक लगातार संक्रमण दर पांच फीसदी से अधिक रहने पर 'रेड अलर्ट' का एलान कर दिया जाता है, जिसके तहत पूर्ण कर्फ्यू लागू कर दिया जाता है। 

पंजाब सरकार ने भी कोविड मामलों में तेजी को देखते हुए रात्रि कर्फ्यू लगाने और शिक्षण संस्थानों को बंद करने का एलान किया है। इसके अलावा सिनेमाघरों को 50 फीसदी क्षमता के साथ संचालित होने का निर्देश दिया गया है। अधिकारियों ने बताया कि ये सभी प्रतिबंध 15 जनवरी तक लागू रहेंगे। इस संबंध में जारी आदेश के अनुसार सभी शिक्षण संस्थान, स्कूल-कॉलेज, यूनिवर्सिटी और कोचिंग सेंटर बंद रहेंगे। 

सभी कक्षाएं ऑनलाइन माध्यम से संचालित की जाएंगी। हालांकि, मेडिकल और नर्सिंग कॉलेजों को इस प्रतिबंध से छूट दी गई है। इसके अलावा बार, सिनेमाघर, मल्टीप्लेक्स, मॉल, रेस्तरां, स्पा, संग्रहालय और चिड़ियाघर 50 फीसदी क्षमता के साथ संचालित किए जाएंगे। इन सभी स्थानों पर सभी कर्मचारियों का पूर्ण टीकाकरण होना चाहिए। आदेश के अनुसार प्रदेश में एसी बसें 50 फीसदी क्षमता के साथ चलाई जाएंगी। 

गोवा सरकार ने भी राज्य में कोरोना के मामलों में तेजी के मद्देनजर स्कूल और कॉलेजों को 26 जनवरी तक बंद करने का फैसला किया है। वहीं, कर्नाटक सरकार इस सप्ताह संक्रमण के प्रसार की रोकथाम के लिए और नियंत्रण के लिए नियम लागू करने पर विचार कर रही है। राज्य कैबिनेट विशेषज्ञों के साथ विचार-विमर्श करने के बाद इस सप्ताह इस पर निर्णय ले सकता है।

पश्चिम बंगाल सरकार ने भी सभी शिक्षण संस्थानों को बंद करने और कार्यालयों में कर्मचारियों की उपस्थिति 50 फीसदी तक सीमित करने का फैसला किया है। राज्य में कोविड संबंधी प्रतिबंधों को फिर लागू कर दिया गया है। इसके अलावा यहां के लिए मुंबई और नई दिल्ली से उड़ानों को भी सीमित किया गया है। अब ये उड़ानें सप्ताह में केवल दो बार (सोमवार और शुक्रवार को) चलेंगी।