कोविड-19ः आंध्र में सबसे अधिक 39.8 प्रतिशत बच्चों को लगे टीके

नई दिल्ली : देश में तीन जनवरी से 15 वर्ष से 18 वर्ष के किशोरों के लिए शुरू किए कोविड-19 रोधी टीकाकरण कार्यक्रम तहत पहले दो दिन में आंध्र प्रदेश में सबसे अधिक 39.8 प्रतिशत किशोरों को टीके की पहली खुराक दी गई। अधिकारियों ने बताया कि दक्षिणी राज्य के बाद हिमाचल प्रदेश में 37 प्रतिशत और फिर गुजरात में 30.9 प्रतिशत बच्चों को कोविड रोधी टीके की पहली खुराक दी गई। देश में तीन जनवरी से 15 से 18 वर्ष के आयुवर्ग के बच्चों के लिए टीकाकरण शुरू किया गया है और इस श्रेणी के 85 लाख पात्र किशोरों को टीके लग चुके हैं। अधिकारियों के अनुसार, दादरा एवं नगर हवेली और दमन एवं दीव में 15 से 18 वर्ष के आयुवर्ग के 28.3 प्रतिशत, कर्नाटक में 25.3 प्रतिशत, उत्तराखंड में 22.5 प्रतिशत, मध्य प्रदेश में 20.6 और छत्तीसंगढ़ में 20.5 प्रतिशत बच्चों को टीके लगाए गए।केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने 27 दिसंबर को दिशानिर्देश जारी करते हुए कहा था कि इस आयुवर्ग के बच्चों को केवल कोविड-19 रोधी ‘कोवैक्सिन’ टीके की खुराक दी जाएगी। इसके लिए पंजीकरण एक जनवरी से शुरू किया गया था। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को बताया था कि पिछले 24 घंटों में 96,43,238 लोगों को कोविड-19 रोधी टीकों की खुराक दी गई। राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक कोविड-19 रोधी टीकों की 147.72 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं।