किसानों ने कर्मचारियों पर खाद में अधिक दाम लेकर बेंचने का लगाया आरोप

- किसानों को सुबह से लेकर शाम तक लाइन में लगने के बाद भी नहीं मिल पा रही खाद

जसपुरा/बांदा। साधन सहकारी समिति लिमिटेड जसपुरा सोसाइटी से खाद न मिलने पर बुधवार को किसानों का गुस्सा फूट पड़ा। क्षेत्र के सैकड़ों किसानों में आक्रोश है सुबह से लेकर शाम तक लाइन में खड़े रहे किसानों ने खाद समितियों के कर्मचारियों पर चोरी छिपे खाद बेंचने का आरोप लगाते हुए बताया कि कई दिनों से किसानों में तेजनारायण सिंह संतोष रामलखन आदि किसानों का कहना था कि जब खाद आती है तो कहाँ चली जा रही है, रात में समितियों के कर्मचारी चोरी छिपे खाद को कस्बे में अनाधिकृत रूप से चल रही खाद की दुकानों को चोरी से बेंच दे रहे हैं, और जब किसानों को खाद समितियों से नही मिलती तो मजबूरी में अनाधिकृत रूप से खुली खाद की दुकानों से महंगे दामों में खाद खरीदनी पड़ती हैं। 267 रुपये की यूरिया बाहर से 400 रुपये की, 1200 रुपये की डीएपी खाद बाहर से 1600 रुपये की खरीदनी पड़ रही है। किसानों को तो एक आधार कार्ड में पांच बोरी का नियम है, लेकिन चोरी से बेचने का कोई नियम नही हैं दुकानों पर खाद बेंचने की अनाधिकृत रूप से कई दुकानें खुली हैं, जो बेरोकटोक महंगे दामों पर खाद किसानों को बेच रहे हैं। इन दुकानों पर अभी तक कोई कार्यवाही नही हुई है। वही लाइन में खड़ी युवती आलेया ने बताया कि सुबह 10 बजे से लाइन में खड़ी है खाद नहीं मिल पा रही और धक्का-मुक्की ऊपर से सहन कर रहे हैं।