सर्दी जुकाम से लेकर सिरदर्द को कम करेगा नीलगिरी का तेल

सर्दी के मौसम में कई सारी परेशानियां बढ़ती जाती है। किसी को ठंड से सिरदर्द होता है तो किसी को सर्दी जुखाम की परेशानी होती है। वहीं बढ़ते प्रदूषण के कारण अस्थमा के मरीजों की परेशानी भी बढ़ने लगती है।  ऐसे में आप नीलगिरी तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। तो जानते हैं नीलगिरी तेल के फायदे-

संक्रमण से लड़ता है

कई अध्ययनों के मुताबिक नीलगिरी का तेल और इसका मुख्य घटक, नीलगिरी, बैक्टीरिया, वायरस और फंगी के खिलाफ लड़ता है। यह तेल मूल रूप से उन माइक्रोऑर्गेनिज्म से लड़ता है, जो आपको बीमार करते हैं। जब इम्यूनिटी को बढ़ाने की बात आती है तो यह काफी शॉकिंग है। यह कैंडिडा और टोनेल फंगस के खिलाफ एक एंटी-फंगल एजेंट के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

दर्द और सूजन

इस तेल में दर्द को दूर करने और सूजन को कम करने की ताकत होती है। यह मांसपेशियों में दर्द, खराश, सूजन और बहुत कुछ को कम करता है। कुछ अध्ययनों के अनुसार, यूकेलिप्टस को सांस लेने वाले रोगियों ने दर्द से राहत का अनुभव किया।

सिर दर्द

नीलगिरी का तेल सिरदर्द के लिए सबसे अच्छे  तेलों में से एक है। यह साइनस को कम करने में मदद करता है। यह मानसिक क्लेरिटी को बढ़ाता है और तनावग्रस्त चेहरे की मांसपेशियों को आराम देता है। यह तनाव या थकावट के कारण होने वाले सिरदर्द से लड़ने में मदद करता है।

घाव देखभाल

इस तेल में एंटीमाइक्रोबियल और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। तेल त्वचा की जलन जैसे घाव, कट और कभी-कभी कीड़े के काटने के लिए भी एक बेहतरीन तेल है। यह फफोले, फोड़े, कट, अल्सर, घाव, कोल्ड सोर, कीड़े के काटने, दाद, घाव, फोड़े, एथलीट फुट और बैक्टीरियल डर्मेटाइटिस के खिलाफ प्रभावी साबित हुआ है।