ऑस्ट्रेलिया के इस विस्फोटक बल्लेबाज ने टेस्ट क्रिकेट में वापसी की जताई उम्मीद

ऑस्ट्रेलिया के विस्फोटक बल्लेबाज ग्लेन मैक्सवेल ने 33 साल की उम्र में भी टेस्ट क्रिकेट में वापसी की उम्मीद नहीं छोड़ी है। मैक्सवेल ने साल 2013 में टेस्ट में डेब्यू किया। लेकिन वो अब तक केवल सात टेस्ट मैच ही खेल सके हैं। इस दौरान उन्होंने एक सेंचुरी भी जड़ी है। टेस्ट में उनका औसत केवल 26.07 का है। करीब 5 साल से मैक्सवेल ने ऑस्ट्रेलिया की तरफ से टेस्ट मैच नहीं खेला है। साल 2017 में ऑस्ट्रेलिया ने बांग्लादेश का दौरा किया था। मैक्सवेल आखिरी बार तब ऑस्ट्रेलिया की तरफ से टेस्ट मैच खेले थे। 

मैक्सवेल ने क्रिकेट 365 पर कहा,'ये बिल्कुल वास्तविकता है। मुझे लग रहा है कि उतना ही अच्छा खेल रहा हूं, जितना खेलता हूं। मैं अपने खेल को लेकर काफी अच्छा महसूस कर रहा हूं। मैं अलग-अलग फॉर्मेट के लिए अलग-अलग तकनीकों पर काम करने में सक्षम रहा हू, जिससे आगे बढ़ने में मदद मिलती है।' मैं चयनकर्ताओं के साथ लगातार संपर्क में हूं और ये स्पष्ट हैं कि अगर अवसर मिलता हैं तो मैं लाल गेंद से खेलने के  लिए तैयार हूं।'

उन्होंने कहा कि अगले साल बहुत क्रिकेट है। आप पूरे सीजन में खिलाड़ियों को झोंकना नहीं चाहते हैं। इसलिए कई बदलाव हो सकते हैं। इसलिए मुझे ह सुनिश्चित करना होगा कि वो मुझे किसी फॉर्मेट में टीम में जगह दें तो मैं अच्छा खेल रहा हूं। मैक्सवेल ने सब-कॉन्टिनेंट में अपने सभी टेस्ट मैच खेले हैं। मार्च 2017 में रांची में भारत के खिलाफ उन्होंने शानदार शतक जड़ा था। लेकिन इसके अलावा,उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 50 से अधिक का स्कोर नहीं बनाया है।