यूपी में फिर बनेगा कमल, 2022 के बारे में सोचना छोड़ दें बबिसेस- केशव प्रसाद मौर्या

केशव प्रसाद मौर्या ने मैनेजिंग एडिटर किमोर अजवानी के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत में आगामी विधानसभा चुनाव (UP Chunav 2022) को लेकर बीजेपी की रणनीति को लेकर खुलकर बात की.

उत्तर प्रदेश में ठंड बढ़ने के बावजूद सियासी पारा चरम पर है सत्ताधारी बीजेपी में लेकर मुख्य विपक्षी पार्टी सपा, बसपा और कांग्रेस पूरी जोरशोर में विधानसभा चुनाव में ताल ठोक रहे हैं. ऐसे में आगामी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) को लेकर यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या (Keshav Prasad Maurya) ने राज्य में सीएम योगी आदित्यनाथ के चहरे पर चुनाव लड़ने की बात करते हुए एक बार फिर से बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिलने का दावा किया.

केशन प्रसाद मौर्या ने न्यूज़18 इंडिया के मैनेजिंग एडिटर किशोर अजवानी के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी की रणनीति को लेकर खुलकर बात की. मौर्या ने इस दौरान कहा, मुख्यमंत्री जी (योगी आदित्यनाथ ने शानदार काम किया है मुझे पूरा विश्वास है कि यूपी में दोबारा कमल खिलेगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि पिछले 15 सालों के बुआ बबुआ के कुशासन से आजादी मिली है. वहीं योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने की सूरत में मौर्या के उपमुख्यमंत्री बनने के सवाल पर बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि मैं पार्टी का कार्यकर्ता है. पार्टी जो जिम्मेदारी देगी को करेंगे

2022 का छोड़कर 27 के बारे में सोचें निवेश

मौर्या ने कहा कि अखिलेश यादव को 2022 के बारे में सोचना छोड़ देना चाहिए, उन्होंने कहा, 2022 में ही उनको दिखाई देता रहा बदलाव, जिन दोबारा खिलेगा कमैहता हूं कि 2022 के बारे में सोचना छोड़ दो, 27 के बारे में सोचो कि आपकी 47 से 48 सीटें हो जाएं

'किसी दागी को टिकट नहीं देगी भाजपा'

यूपी की सियासत दागी नेताओं के सवाल पर बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मौर्या ने कहा कि गुंडे जेल के अंदर लड़े या जेल के बाहर से लड़े, उनका हारना तय है. मौर्या ने दावा किया, 'बीजेपी किसी बाहूबली को अपनी पार्टी हिस्सा नहीं बनने नहीं देगी. मेरी पार्टी से किसी भी बाहूबली को टिकट नहीं मिलेगा. हमारी पार्टी में शानदार कार्यकर्ता है. हमारी टीम शानदार हैं. आगामी चुनाव में उन्हें ही टिकट मिलेगा.' वहीं डीपी यादव और धनंजय सिंह जैसे बाहुबसियों को टिकट मिलने के सवाल पर मौर्या ने साफ किया कि हमारी पार्टी से नहीं मिलेगा. वहीं सहयोगी पार्टी द्वारा दागियों को टिकट दिए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि सहयोगी भी उन्हें टिकट देंगे. अगर हमारी सहयोगी पार्टी देगी तो उस परस्थिति में पार्टी इस पर विचार करेगी.

बढ़ती महंगाई की चुनौती से मुकाबला जारी

वहीं बढ़ती महंगाई के सवाल पर केशव प्रसाद मौर्या इसे एक बड़ी चुनौती जरूर मानते हैं. हालांकि इसके साथ ही महंगाई से मुकाबले के लिए उनकी सरकार द्वारा किए गए काम भी गिनाए. उन्होंने कहा, 'कोरोना के बाद बहुत बड़ी चुनौती थी. रोज कमाने-खाने वालों के सामने बड़ा संकट था, लेकिन पीएम मोदी की गरीब कल्याण से गरीबों को फ्री अन्न दिया जा रहा है. हमने दिसंबर महीने से लोगों को फ्री में तेल और दाल देना शुरू कर दिया है. अलग-अलग योजना के जरिये गरीबों के लिए काम कर रहे है.'

वहीं सपा, कांग्रेस, आप की ओर से बिजली को लेकर किए जा वादे पर मौर्या ने कहा कि कांग्रेस और आप का खाता भी नहीं खुलने वाला है. सपा जब सत्ता में थी तब कुछ किया नहीं और अब झूठे वादे कर रहे हैं. बीजेपी सरकार जो कहती है वो करती है.

वहीं कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट के बढ़ते चतरे के कारण चुनाव टालने के सवाल पर बीजेपी के स्टार प्रचारक ने कहा कि अभी चुनाव की तारीख निर्धारित नहीं हुई है. अगर चुनाव आयोग कहेगा तो चुनाव नहीं होंगे. रैली जो हो रही है. पूरे कोरोनो प्रोटोकॉल के तहत हो रही है.

गंगा में बहते शब पर यह बोले मौर्या

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान गंगा नदी में शव बहने के सवाल पर कहा कि केशव प्रसाद मौर्या ने कहा कि जिनको प्रयागराज के बारे में जानकारी नहीं रहती है वो लोग ऐसी बात करते हैं. मैं प्रयागराज का रहने वाला हूं. प्रयागराज में भारी संख्या में लोग अंतिम संस्कार के लिए आते हैं. नेपाल तक के लोग प्रयागराज में अंतिम संस्कार के लिए आते हैं. जब जल कम होता है तो नदी के किनारे (कछार) मे शव को दफनाया जाता है. लेकिन जब नदी में उफान आता है तब ऐसा होता है.'