एक ही प्लेन में दुबई से ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना हुई ENG-AUS टीम

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया की टीमें साथ में दुबई से ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना हुईं। इंग्लैंड के लिए अलग-अलग फॉर्मेट खेलने वाले खिलाड़ियों के लिए दुबई से क्वींसलैंड का सफर काफी दिलचस्प रहा होगा। इंग्लैंड की टीम टी20 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हारकर बाहर हो गई थी, जबकि ऑस्ट्रेलियाई टीम ने न्यूजीलैंड को हराकर खिताब अपने नाम किया। इंग्लैंड के मायूस खिलाड़ी और ऑस्ट्रेलिया के जोश से भरे हुए खिलाड़ी एक ही खास प्लेन में दुबई से रवाना हुए।

जोस बटलर, जॉनी बेयरस्टॉ, डेविड मलान, क्रिस वोक्स और मार्क वुड जैसे खिलाड़ी और इंग्लैंड की कोचिंग टीम के सदस्य एशेज सीरीज के लिए मंगलवार को चैंपियन ऑस्ट्रेलिया के साथ ही स्पेशल फ्लाइट से मंगलवार को यहां पहुंचे। दोनों टीमों के सदस्यों ने गोल्ड कोस्ट में आइसोलेशन पर जाने से पहले कोविड-19 दिशानिर्देशों का पालन किया, इसके लिए स्पेशल फ्लाइट की व्यवस्था की गई थी। इंग्लैंड ने टी20 वर्ल्ड कप के सुपर 12 में शानदार प्रदर्शन किया था, जिसमें ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आठ विकेट से जीत भी शामिल है, लेकिन वह सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हार गया था।

दूसरी तरफ ऑस्ट्रेलिया सही समय पर अपने चरम पर पहुंचा और उसने रविवार को न्यूजीलैंड को हराकर पहली बार टी20 वर्ल्ड कप जीता। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइक अथर्टन ने ऑस्ट्रेलिया की जीत के बाद मजाकिया अंदाज में कहा था, 'क्रिकेटरों का एक ग्रुप है, जो इसका आनंद नहीं ले रहा होगा और वे एशेज में भाग लेने के लिए ऑस्ट्रेलिया जाने वाले इंग्लैंड खिलाड़ी हैं। यह यात्रा दिलचस्प हो सकती है।' ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड ने यह मानने से इन्कार कर दिया था कि एक ही उड़ान साझा करना असुविधाजनक होगा, लेकिन इंग्लैंड के मार्क वुड वर्ल्ड चैंपियन ऑस्ट्रेलियाई टीम के साथ उड़ान भरने की संभावना से ही असहज थे। हेजलवुड ने यात्रा से पहले कहा था, 'इसमें कोई परेशानी नहीं होगी। हमने उनके साथ बहुत सारी क्रिकेट खेली है - काउंटी क्रिकेट और आईपीएल। प्रत्येक एक दूसरे को जानता है, इसमें कोई दिक्कत नहीं आएगी।'

दूसरी तरफ वुड ने बीबीसी से कहा था, 'मैं उन्हें (आस्ट्रेलिया) जीतते हुए नहीं देख सकता। यह असहनीय होगा।' उन्होंने कहा, 'आप उनकी आंखों में आंख डालकर बधाई तो दे सकते हैं, लेकिन जब आप उनके खिलाफ एशेज सीरीज खेलने के लिए जा रहे हों तो आप नहीं चाहते कि वे आत्मविश्वास से भरे हों और वे आपके सामने ट्रॉफी लहराएं।' दोनों टीमों के बीच पहला एशेज टेस्ट 8 दिसंबर से गाबा में शुरू होगा।