डेंगू मरीजों में तेजी से प्लेटलेट्स बढ़ाएगा हरसिंगार का काढ़ा, जानिए इसकी पूरी रेसिपी

देश की राजधानी दिल्ली सहित कई जगहों पर डेंगू का कहर देखने को मिल रहा है। डेंगू के टाइप टू स्ट्रेन का संक्रमण लोगों में तेजी से फैल रहा है जो बेहद घातक है। कई हॉस्पिटल में तो मरीजों को एडमिट करने के लिए बेड की भी कमी है इसलिए लोगों को घर पर ही इलाज करने की सलाह दी जा रही है। ऐसे में आप डॉक्टर की बताई दवा के साथ-साथ कुछ घरेलू नुस्खे अपनाकर भी डेंगू का इलाज कर सकते हैं। डेंगू में रिकवरी के लिए आप हरसिंगार का काढ़ा बनाकर पी सकते हैं, जिससे जल्दी आराम मिलती है और कोई नुकसान भी नहीं होता।

कैसे फैलता है डेंगू?

डेंगू फ्लू एडिज एजिप्टी प्रजाति की मादा मच्छरों से फैलता है, जो गंदे नहीं बल्कि साफ पानी में पनपते हैं। यही नहीं, ये मच्छर रात की बजाए दिन में ज्यादा काटते हैं

डेंगू के लक्षण

डेंगू के लक्षण आमतौर पर 3-7 दिनों के बाद दिखाई दे सकते हैं जो इस तरह हैं....

. तेज बुखार

. उल्टी व मतली

. सिरदर्द

. जोड़ों और मासंपेशियों में दर्द

. आंखों के पीछे दर्द

. थकावट

. त्वचा पर लाल चकत्ते

. भूख ना लगना

कैसे बनाएं हरसिंगार का काढ़ा?

1. काढ़ा बाने के लिए सबसे पहले हरसिंगार के 20-25 पत्तों को अच्छी तरह धो लें, ताकि सारी धूल-मिट्टी निकल जाए।

2. फिर हरसिंगार की पत्तियों में काली मिर्च, गिलोय और तुलसी को आधे लीटर पानी में तब तक उबालें जब तक वो आधा ना रह जाए। 

3. स्वाद के लिए आप इसमें शुद्ध शहद भी डाल सकते हैं डेंगू मरीज को दिनभर में थोड़ा-थोड़ा करके काढ़ा पिलाते रहें।

डेंगू के मरीजों के लिए क्यों फायदेमंद हरसिंगार का काढ़ा?

-हरसिंगार में कई ऐसे पोषक तत्व होते हैं, जो डेंगू मरीजों के लिए फायदेमंद है।

-हरसिंगार का काढ़ा डेंगू मरीजों में प्लेटलेट्स बढ़ाने में मदद करता है। इसके अलावा इससे शरीर में ब्लड सेल्स की मात्रा भी बढ़ती है।

-इससे इम्युनिटी बढ़ती है जिससे ना सिर्फ डेंगू के लक्षण कम होते हैं बल्कि आप दूसरी बीमारियों से भी बचे रहते हैं। हरसिंगार के अलावा आप डेंगू मरीजों को पपीते व नीम के पत्तों का काढ़ा, बकरी का दूध, मेथी के पत्ते और नारियल पानी भी दे सकते हैं, जिससे रिकवरी जल्दी होती है।