पुष्पों से सुसज्जित रथ में विराजमान होकर राधा वृन्दावन चंद्र ने दिया भक्तों को दर्शन

मथुरा। वृंदावन चंद्रोदय मंदिर में आयोजित त्रिदिवसीय कार्तिक उत्सव के अंतिम दिन सोमवार को भगवान् श्री श्रीराधा वृन्दावन चंद्र की शोभा यात्रा का आयोजन किया गया। इस दौरान स्वर्ण प्रभा युक्त रथ में विराजमान श्रीश्री राधा वृन्दावन चंद्र ने सहज ही अपने भक्तों को दर्शन देकर उन्हें मंत्रमुग्ध कर दिया। इस शोभायात्रा से पूर्व भक्तों ने विभिन्न प्रकार के पुष्पों का चयन कर मंदिर प्रांगण एवं रथ को विशेष प्रकार के पुष्पों से सुसज्जित किया।कार्यक्रम की श्रंखला में चंद्रोदय मंदिर में आयोजित शोभायात्रा के दौरान ठाकुर श्री श्री राधा वृन्दावन चंद्र को विशेष रूप से तैयार वस्त्रों को धारण कराया गया। उसके पश्चात उन्हें भक्तों द्वारा पालकी में विराजमान कर मंदिर के गर्भ ग्रह से शोभायात्रा के लिए पुष्पों से सुसज्जित रथ पर विराजमान किया गया। सर्वप्रथम र्स्वण प्रभा युक्त रथ पर विराजे श्रीश्री राधा वृन्दावन चंद्र की नजर उतारी गयी। उसके बाद भक्तों ने नरसिम्हा आरती की एवं सोहनी सेवा के पश्चात रथ को भक्तों द्वारा खीचकर निर्माणाधीन चंद्रोदय मंदिर प्रागण तक ले जाया गया।

इस उत्सव में रथ यात्रा के पश्चात ठाकुर श्री वृन्दावन चंद्र जी के समक्ष भक्तों द्वारा दामोदर अष्टकम् का गान किया गया। इस दौरान भक्तों ने दीपदान कर श्रीश्री राधा वृन्दावन चंद्र का शुभाशीष प्राप्त किया। इस अवसर पर देश के विभिन्न स्थानों से आये भक्तों ने हरिनाम संकीर्तन के द्वारा मंदिर प्रांगण में आने वाले भक्तों का मनमोह लिया। यह जानकारी संस्था के मीडिया प्रभारी अनंतवीर्य दास व अभिषेक मिश्रा ने दी।