दाद, खाज और खुजली को जड़ से खत्म करेगी ये चीजें

बदलते मौसम में दाद, खाज और खुजली की समस्या काफी देखने को मिलती है, जिसे मेडिकल भाषा में टिनीया भी कहते हैं। यह त्वचा की ऊपरी परत पर होती है, एक व्यक्ति से दूसरे में भी आसानी से फैल सकती है। बहुत से लोग इससे छुटकारा पाने के लिए दवाएं, क्रीम या मेडिकल उपचार करते हैं। हालांकि इसके लिए आप घरेलू नुस्खे भी आजमा सकते हैं।

क्या होती है दाद, खाज- खुजली?

दाद, खाज- खुजली एक तरह का फंगल इंफेक्शन है लेकिन यह फंगल इंफेक्शन से काफ अलग है। इसमें त्वचा पर गोल लाल चकत्तों पर छोटे-छोटे दाने हो जाते हैं। इसके कारण प्रभावित एरिया पर खुजली व असहनीय जलन भी है।

दाद (रिंगवार्म) होने के कारण

. दाद फंगल इंफेक्शन की वजह से होता है। यह फफूंदी जैसा परजीवी त्वचा की बाहरी कोशिकाओं में पनपता है जो किसी जानवर या संक्रमित व्यक्ति से फैल सकता है।

. यह संक्रमित मरीज के कंघी, ब्रश, कपड़े, तौलिया, बिस्तर आदि का इस्तेमाल करने से भी हो सकता है।

दाद (रिंगवार्म) के लक्षण

. प्रभावित एरिया पर खुजली व जलन

. लाल चकत्ते बन जाता

. चकत्ते बाहरी तरफ से किनारों पर लाल होते है

. चकत्ते ऊपर की और उभरा हुए होना

. चकत्ते के साथ छोटे-छोटे दाने

दाद, खाज- खुजली के लिए घरेलू उपचार

1. सबसे पहले करेले को अच्छी तरह धो लें, ताकि धूल-मिट्टी निकाल दें।

2. अब करेले को कद्दूकस करके उसका रस निकाल लें। इसके लिए करेले को घिस लें या इसके छिलके को ग्राइंड करके रस निकाल लें।

3. एक बाउल में करेले का जूस , 1 चम्मच एलोवेरा जेल व 1 चम्मच गुलाबजल मिला लें।

कैसे करें इस्तेमाल?

सबसे पहले प्रभावित एरिया को पानी से साफ कर लें। आप चाहे तो नहा भी सकते हैं। इसके बाद करेले का रस लगाएं और कुछ देर के लिए छोड़ दें। फिर पानी से साफ कर लें। ऐसा दिन में कम से कम 2 बार करने से आपको फर्क देखने को मिलेगा।

नारियल तेल भी कारगार

नारियल न सिर्फ खुजली से राहत दिलाता है बल्कि यह त्वचा को मुलायम व नर्म भी बना देता है। दाद, खाज व खुजली होने पर प्रभावित एरिया पर नारियल तेल लगाएं। दाद की शुरुआत में ही घरेलू उपचार करें लेकिन अगर आराम न मिले या दाद बढ़ रहा हो तो बिना देरी डॉक्टर के पास जाएं।