आचार्य नवलेश की भागवत कथा में श्रोता हुए भक्ति मे भाव विभोर

बाँदा। तुलसी बिहार कलूकुआं मे पिछले 20 नवम्बर से आयोजित श्री मद भागवत कथा मे बुधवार को सुन्दर भगवान कृष्ण की गोवर्धन लीला कथा के रस का वर्णन करते हुए प्रखांण्ड विश्व बिख्यात भागवताचार्य आचार्य नवलेश ने श्रोताओं को करते हुए भाव भिभोर कर दिया इस आयोजन में  कथा परिक्षित गुलाब सिंह व उनकी पत्नी  ज्ञानमती सिंह के साथ परिवारीजनों की मौजूदगी में लगभग सैकड़ों पुरूष महिला भक्तों ने मंत्रमुग्ध होकर कथा में बताई गई जीवनपयोगी बातों को ग्रहण किया ।

 इस गोवर्धन लीला के माध्यम से आचार्य जी ने हिन्दू संस्कृति में किए जाने वाले संस्कार, कर्म ,कांण्ड और प्रसाद की  बिधी को बताया  समाज, परिवार मे कैसे सदाचार के साथ सहयोगी होना चाहिए साथ ही दान की परिभाषा को सारगर्भित शब्दों में वर्णन करते हुए उसके लाभ और उपयोग को वाद्ययंत्रों और गायन के साथ चरित्र चित्रण किया जिसमें भक्तों ने राग मे राग मिलाते हुए थालियों के गुजंन के साथ नाच गा कर झूमते हुए ओतप्रोत हो गए इस अवसर पर पूरा भागवत कथा पण्डाल भक्तों से भरा रहा ।