ग्रामीण आबादी सर्वेक्षण (घरौनी) कार्य में सहयोग प्रदान करें ग्रामवासी: जिलाधिकारी

ग्रामवासियों के लिए घरौनी अत्यन्त महत्वपूर्ण दस्तावेज़: डीएम

बहराइच । ग्रामीण आबादी के नागरिकों को भूमि अभिलेख प्रदान करने, ऋण एवं वित्तीय लाभ दिलाने में सक्षम बनाने हेतु वित्तीय स्थिरता प्रदान करने तथा सम्पत्ति सम्बन्धी विवादों एवं कानूनी मामलों को न्यून से न्यूनतम किये जाने के उद्देश्य से जनपद बहराइच में ग्रामीण आबादी सर्वेक्षण (घरौनी) का कार्य संचालित है। उल्लेखनीय है कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अतिमहत्वाकांक्षी योजना को अमलीजामा पहनाये जाने हेतु 24 अप्रैल 2020 से प्रारम्भ देशव्यापी घरौनी कार्यक्रम के अन्तर्गत नवीन ड्रोन प्रोद्यौगिकी का प्रयोग कर ग्रामीण आबादी वाले क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण कर उनके स्वामित्व सम्बन्धित अभिलेखों को तैयार किया जा रहा है।

राजस्व परिषद के अध्यक्ष मुकुल सिंघल द्वारा वर्चुअल माध्यम से ग्रामीण आबादी सर्वेक्षण (घरौनी) कार्यक्रम की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र ने बताया कि जनपद की समस्त तहसीलों के कुल 1387 ग्रामों के सापेक्ष जनपद की 04 तहसीलों बहराइच, नानपारा, कैसरगंज व महसी के 725 ग्रामों में प्रथम चरण अन्तर्गत स्वामित्व योजना का कार्य प्रगति पर है। तहसील बहराइच के 110 ग्रामों में ड्रोन सर्वे का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। जबकि तहसील नानपारा में 217 के सापेक्ष 143 ग्रामों, कैसरगंज में 250 के सापेक्ष 154 तथा महसी 148 के सापेक्ष 69 ग्रामों में इस प्रकार कुल 725 के सापेक्ष 476 ग्रामों में ड्रोन सर्वे का कार्य पूर्ण हो गया है। शेष 249 ग्रामों में माह नवम्बर में ड्रोन सर्वे का कार्य पूर्ण कर लिया जायेगा। पायलट प्रोजेक्ट अन्तर्गत तहसील सदर के 10 ग्रामों में घरौनी वितरण का कार्य भी सम्पन्न किया जा चुका है।

जिला सूचना विज्ञान केन्द्र के वीडियो कांफ्रेंसिंग कक्ष में आयोजित वर्चुअली समीक्षा बैठक में राजस्व परिषद के अध्यक्ष श्री सिंघल द्वारा निर्देश दिये गये कि शीघ्र से शीघ्र ड्रोन सर्वेक्षण का कार्य पूर्ण करते हुए सम्बन्धित ग्रामों में प्राथमिकता के आधार पर घरौनी वितरण का कार्य सम्पादित कराया जाय। श्री सिंघल ने जिलाधिकारी को निर्देश दिया कि नियमित रूप से घरौनी कार्य की समीक्षा करते रहें ताकि शासन की मंशानुरूप समय से सर्वेक्षण कार्य पूरा किया जा सके। इस अवसर पर नोडल अधिकारी/मुख्य राजस्व अधिकारी अवधेश कुमार मिश्र, डिप्टी कलेक्टर सुभाष सिंह व अमन देओल, समस्त तहसीलदार तथा जिला सांख्यिकीय अधिकारी नरेन्द्र कुमार गुप्ता मौजूद रहे।

जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र ने जनपद के ग्रामीण क्षेत्र के नागरिकों से अपील की है कि घरौनी कार्य में राजस्व विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को पूर्ण सहयोग प्रदान करें। साथ ही समय से कार्मिकों को घरौनी कार्य हेतु अनापत्ति प्रमाण-पत्र भी उपलब्ध करा दें ताकि आपके ग्राम में ड्रोन सर्वेक्षण के उपरान्त घरौनी वितरण का कार्य किया जा सके। डॉ. चन्द्र ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करने वाले नागरिकों हेतु घरौनी एक अत्यन्त महत्वपूर्ण अभिलेख है। इसके द्वारा किसी भी नागरिक को शासकीय योजनाओं अन्तर्गत ऋण के साथ अन्य योजनाओं का लाभ प्राप्त करने में काफी आसानी होगी। उन्होंने बताया कि घरौनी अभिलेख का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इससे सम्पत्ति सम्बन्धी विवादों पर विराम लगने से ग्रामवाािसयों के अमूल्य धन एवं समय की बचत होगी।