क्रिकेट के ओलंपिक में शामिल होने की प्रबल संभावना!! - 121 साल बाद क्रिकेट प्रेमियों की मुराद पूरी होगी

आईसीसी द्वारा 2024 क्रिकेट टी-20 वर्ल्ड कप की जिम्मेदारी अमेरिका को देने से लॉस एंजेल्स ओलंपिक 2028 में क्रिकेट शामिल होने की संभावना बढ़ी - एड किशन भावनानी

गोंदिया - वैश्विक रूप से खेलों में क्रिकेट एक ऐसा खेल है जोकरीब करीब सभी नागरिकों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करता है। जिसे हमने कई टीवी चैनलों पर, अंतरराष्ट्रीय या राष्ट्रीय मुकाबलों और हाल ही में हुए टी-20 वर्ल्ड कप 2021, रणजी ट्रॉफी, टेस्ट मैच इत्यादि अनेक प्रकार की  क्रिकेट मैच होती है तो अधिकतम युवा, बुजुर्ग, बच्चे सभी का ध्यान यकायक आकर्षित हो जाता है। साथियों बात अगर हम क्रिकेट में रुचि की करें तो दशकों पहले भी विदेशी वक्त के हिसाब से भारत में सुबह चार बजे से मैच चालू होता था, तो दूसरों की तो क्या हमारे परिवार में भी सुबह उठकर मैच देखतेथे और मैंआश्चर्यचकित रह जाता था। उस समय भारत ने भी अंतरराष्ट्रीय मैच कपिल देव की कप्तानी में जीती थी। साथियों बात अगर हम ओलंपिक खेलों की करें तो हर 4 वर्ष में यह खेल होते हैं परंतु क्रिकेट जो के अति लोकप्रिय खेल है, उसमें शामिल नहीं किया गया है। जिसका आश्चर्य करीब-करीब सभी खेल प्रेमियों को होगा जो कि वाकई ताज्जुब की बात है !!! हालांकि अमेरिका क्रिकेट मैच नहीं खेलता यहअलग बात है।साथियों ऐसा नहीं कि क्रिकेट कभी ओलंपिक खेलों में शामिल ही नहीं था एक जानकारी के अनुसार सन 1900 में याने 121 साल पहले क्रिकेट फ्रांस की राजधानी पेरिस ओलंपिक में शामिल था और खेला भी गया था। जब ओलंपिक खेलों का साल 1896 में आयोजन किया गया, उस वक्त क्रिकेट को ओलंपिक में शामिल किया गया था। हालांकि तब क्रिकेट की कोई टीम नहीं थी, जिसकी वजह से इस खेल को ओलंपिक से रद्द कर दिया गया। उस वक्त क्रिकेट तो खेला जाता था, लेकिन यह कुछ देशों में ही सीमित था। इसका क्रेज काफी कम था और यही वज़ह थी कि तमाम लोग इस खेल के बारे में जानते भी नहीं थे।सन 1900 में ओलंपिक में कुल 19 खेल शामिल किए गए थे जिनमें क्रिकेट भी था. इस दौरान ओलंपिक में क्रिकेट की चार टीमों को शामिल किया गया था। इनमें इंग्लैंड, फ्रांस, बेल्जियम और नीदरलैंड्स की टीमें थीं। हालांकि गेम शुरू होने से पहले बेल्जियम और नीदरलैंड्स की टीमों ने अपने नाम वापस ले लिए। इंग्लैंड और फ्रांस के बीच हुआ था फाइनल मैच। बेल्जियम और नीदरलैंड्स की टीमें जब ओलंपिक से बाहर हो गईं, तो केवल इंग्लैंड और फ्रांस की टीम बची थीं। ऐसे में ओलंपिक के आयोजकों ने इन दोनों टीमों के बीच एक मैच कराने का फैसला किया और इस मैच को फाइनल घोषित किया। दो दिन चले इसमैच में इंग्लैंड की टीम ने जीत दर्ज कर ली। उस वक्त विजेता को सिल्वर मेडल और उपविजेता को ब्रोंज मेडल दिया गया।ओलंपिक ने 12 सालों बाद इस मैच को अपने रिकॉर्ड में दर्ज किया और फिर इंग्लैंड को गोल्ड मेडल व फ्रांस को सिल्वर मेडल दिया गया। ऐसी जानकारी एक टीवी चैनल की साइट पर दर्ज है। साथियों बात अगर हम 121 साल बाद अब क्रिकेटको लॉस एंजेल्स ओलंपिक 2028 में शामिल करने की प्रबल संभावनाओं की करें तो,10 अगस्त  2021 की इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की जानकारी के अनुसार इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल ने कन्फर्म किया है कि साल 2028 में होने वाले लॉस एंजलिस ओलंपिक में क्रिकेट को शामिल किए जाने की कोशिश है। आईसीसी द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि एक वर्किंग ग्रुप का गठन किया गया है, जिसके जिम्मे में ओलंपिक खेलों में क्रिकेट को शामिल किए जाने की प्रक्रिया का जिम्मा रहेगा। टीवी चैनल न्यूज़ एटिन के अनुसार, आईसीसी क्रिकेट को ओलंपिक में शामिल कराने को लेकर लंबे समय से प्रयास कर रहा है 2028 लॉस एंजिलिस ओलंपिक में क्रिकेट को शामिल किया जा सकता है। इसकी उम्मीद इसलिए भी और बढ़ गई है, क्योंकि अमेरिका को इससे पहले आईसीसी इवेंट की जिम्मेदारी मिली है। 2024 में होने वाला टी20 वर्ल्ड कप वेस्टइंडीज और अमेरिका में संयुक्त रूप से आयोजित किया जाएगा। अमेरिका अभी आईसीसी का एसोसिएट सदस्य है। अमेरिका में क्रिकेट लगातार बढ़ रहा है। वहां के क्रिकेटर दुनिया भर की टी20 लीग में खेल भी रहे हैं। कई बड़े देशों के खिलाड़ियों ने अमेरिका रुख भी किया है। इसमें भारत के उन्मुक्त चंद भी शामिल हैं। टी20 वर्ल्ड कप के आयोजन से आईसीसी वहां के इंफ्रास्ट्रक्चर को जान सकेगा। इसके अलावा वहां के फैंस को बड़े इवेंट को भी सामने से देखने का मौका मिलेगा इससे पहले भारत औरवेस्टइंडीज के टी20 मैच के अलावा कई इंटरनेशनल के मुकाबले अमेरिका में खेले जा चुके हैं। ओलंपिक में टी10 लीग को शामिल किया जा सकता है। हालांकि इसे अभी इंटरनेशनल लेवल का दर्जा नहीं मिला है, लेकिन यूएई में टी10 लीग का सफल आयोजन पिछले कई सालों से कराया जा रहा है। आईसीसी की ओर से इसेमान्यता भी दी जा चुकी है।अभीआईसीसी इंटरनेशनल लेवल पर टेस्ट, वनडे और टी20 का ही आयोजनकरता है। लेकिन ओलंंपिक काे देखतेहुए वह टी10 को मंजूरी दे सकता है। अतः अगर हम उपरोक्त पूरे विवरण का अध्ययन कर उसका विश्लेषण करें तो हम पाएंगे कि क्रिकेट के ओलंपिक में शामिल होने की संभावनाएं बढ़ गई है जो कि 121 साल बाद क्रिकेट प्रेमियों की मुराद पूरी होगी तथा आईसीसी द्वारा 2024 क्रिकेट टी20 वर्ल्ड कप की जिम्मेदारी अमेरिका को देने से लॉस एंजेल्स ओलंपिक 2028 में क्रिकेट शामिल होने की संभावनाएं काफी बढ़ गई हैं।

-संकलनकर्ता- कर विशेषज्ञ एडवोकेट किशन सनमुखदास भावनानी गोंदिया महाराष्ट्र