इन राज्यों में हो सकती है बारिश, जानें देशभर के मौसम का हाल

नई दिल्ली। अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में बन रहे दबाव के क्षेत्र के चलते आगामी दो दिनों में देश के मध्य और तटवर्ती भागों में भारी बारिश हो सकती है। यह जानकारी भारतीय मौसम विभाग ने दी है। इस बीच वापस हो रहे दक्षिण-पश्चिम मानसून के चलते गुजरात, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, झारखंड, बिहार और महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में भी आने वाले दो दिनों में बारिश हो सकती है। पहला चक्रवाती दबाव अंडमान के नजदीक उत्तर में बन रहा है। वहां से यह पश्चिम-उत्तर की ओर बढ़ रहा है। इसके आंध्र प्रदेश के तट पर तीन-चार दिनों में पहुंचने की आशंका है। इसके चलते तटवर्ती इलाकों में सामान्य बारिश और तेज हवा चल सकती है।

पहला चक्रवाती दबाव उत्तरी अंडमान सागर और उसके आस-पास स्थित है। इसके प्रभाव से अगले 36 घंटों के दौरान उसी क्षेत्र में एक निम्न दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। इसके बाद के 4-5 दिनों के दौरान इसके दक्षिण ओडिशा-उत्तर आंध्र प्रदेश के तटों की ओर पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है। इसके प्रभाव से अगले 5 दिनों के दौरान अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में कुछ जगहों पर गरज (40-50 किमी प्रति घंटे से 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा की गति) के साथ वर्षा होने की संभावना है।

एक चक्रवाती दबाव पूर्वी मध्य अरब सागर पर भी स्थित है। अगले तीन-चार दिनों के दौरान इसके बने रहने की बहुत संभावना है। इसके प्रभाव में अगले 5 दिनों के दौरान दक्षिणी प्रायद्वीपीय भारत में और अगले दो दिनों के दौरान महाराष्ट्र में बारिश होने की संभावना है। आइएमडी की विज्ञप्ति में कहा गया है कि केरल और माहे में 12 से 14 अक्टूबर के बीच बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। दक्षिण पश्चिम मानसून की वापसी 17 सितंबर की सामान्य तारीख के मुकाबले इस साल 6 अक्टूबर को बहुत देर से शुरू हुई।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने रविवार को केरल के छह जिलों के लिए 12, 13 और 14 अक्टूबर को भारी बारिश की भविष्यवाणी करते हुए आरेंज अलर्ट जारी किया। मौसम विज्ञानी ने शाम 4 बजे के बुलेटिन में कोल्लम, पठानमथिट्टा, अलाप्पुझा, कोट्टायम, एर्नाकुलम और इडुक्की जिलों में तीन दिनों के लिए आरेंज अलर्ट जारी किया। इस बीच, तिरुवनंतपुरम, पलक्कड़, मलप्पुरम और कोझीकोड जिलों में येलो अलर्ट जारी किया गया है। तमिलनाडु जल संसाधन विभाग ने चेन्नई उपनगरों में भारी बारिश के बाद बाढ़ की चेतावनी जारी की और चेन्नई के लिए मुख्य पेयजल स्रोत पूंडी या सत्यमूर्ति सागर जलाशय के अपनी पूरी क्षमता तक लबालब भर जाने की आशंका जताई गई है। विभाग ने पहले ही तिरुवल्लुर जिले के प्रशासन को मनाली और एन्नोर में रहने वाले लोगों सहित कोसाथालियार नदी के  करीब रहने वाले लोगों को दूसरे जगहों पहुंटाने को लेकर सूचित कर दिया है।