बारिश और हवा से खेत मे खड़ी पकी धान की फसल को हुआ नुकसान

मऊ जनपद में रविवार से हो रही  बारिश एवं तेज हवाओं ने किसानों को निराश कर दिया है सोमवार की शाम तक रुक-रुक कर बारिश होती रही। वहीं देर शाम तक बादल छाए रहे जिससे धान की अगौती फसलों को काफी नुकशान हुआ है। क्षेत्र में रविवार की रात से हो रही बारिश ने किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी है क्षेत्र के कई सौ किसानों का तैयार पिला सोना मौसम की मार में बर्बाद हो गया क्षेत्र के किसान नंदराम फतेह बहादुर राजिंदर गोपाल प्रवेश दीपक समैयालाल रामकुमार राजेश जैसे  कई  सौ किसानों की धान की फसल बारिश में गिर कर बर्बाद हो गयी है वही खेतो मे खड़े  धान  जिस मे बालिया निकल गई  धान फूल आ रही फसल पर भी किसान पैदावार कम होने की आशंका व्यक्त कर रहे है किसानों ने बताया की हमारी मेहनत पर बारिश के कहर ने पानी फेर दिया है मौसम में आए बदलाव के बाद बारिश शुरू हुई। जो रविवार की रात बूंदाबांदी तो कभी तेज बारिश के रूप में सोमवार की दोपहर तक जारी रही। पूरे दिन आसमान में बादल छाए रहे और एक बार भी सूर्यदेव के दर्शन नहीं हुए। जैसे-जैसे आसमान से बूंदे बरस रही थीं, किसानों में मौसम का भय गहराता जा रहा था। इस समय बारिश के कारण धान की अगौती पकी हुई फसल में नुकसान की संभावनाएं ज्यादा हैं कई एकड़ फसल हवा और बारिश के कारण धरती पर लेट गयी है केक्षेत्र के किसानों का कहना है यदि बारिश एक ही दिन में रुक जाती है तो ज्यादा नुकसान नहीं होता लेकिन यह ज्यादा दिन हुई तो पकी-पकाई फसल में भारी नुकसान होगा किसान अपनी मेहनत की कमाई को बर्बाद होता देख परेशान है और सरकार से मुवावजे की उम्मीद लगाये है।