॥ ईमानदारी की सजा क्यूँ ॥

ईमानदार अधिकारी की देश में खैर नहीं

बेईमानों का इस देश में कोई गैर भी नहीं

आरोपों की वर्तमान में सज गई है दुकान

ड्रग नशेड़ी का बन रहा है देश महान

अब कौन बनेगा देश में ईमानदार अधिकारी

जहाँ चुप चाप तमाशा देख रहा सब व्यापारी

मौन क्यूं दीख रहा है भारत की सरकार

क्या बेबस हो गई कानून की देश में अधिकार

व्यक्तिगत आरोप से होते अधिकारी शर्मसार

व्यक्तिगत आरोप लगाने का कौन दिया अधिकार

अपने कर्तव्य पे करने दो उन्हें ड्यूटी पर काम

तब पूरा होगा इस देश की भूखी अरमान

कौन पहने ईमानदारी का भारी भरकम ताज

जेल भेजने की कोई कर रहा है प्रयास आज

कैसे सुधरेगा भ्रष्ट्राचारी से यह हिन्दुस्तान

ड्रग माफिया क्यूं बन रहा है देश में अब महान

कैसे कौन सुधारेगा देश को अब आज

युवा बिगड़ रहें हैं हर दिन हर रात

हर मोड़ पे खड़ा है देश में दुःशाषण

क्यूं मौन देख रहा है खेल पुलिस प्रशाषण

ईमानदार के संग आओ सब आज

बेईमानों के विरूद्ध उठाओ आवाज

अपराधी के खिलाफ हो जाये एक जंग

खड़ा होने की जरूरत है ईमानदार के संग


उदय किशोर साह

मो० पो० जयपुर जिला बाँका बिहार