किसान यूनियन के मंडल अध्यक्ष ने उपजिलाधिकारी व सीओ सदर को ज्ञापन सौपा

 पैलानी/बांदा। संयुक्त किसान मोर्चा के आवाहन पर आज सोमवार को रेल रोको आंदोलन के तहत जनपद बांदा में सभी किसान पदाधिकारियों को घरों में नजरबंद किया गया । किसानों के आंदोलन से डरी सरकार घरों में ही किसानों को नजरबंद करने का  काम किया है आज जिस तरह से किसानों की आवाज को दबाने के लिए किसानों को घरों में कैद किया गया है उससे गांव-गांव किसानों में आक्रोश बड़ा है सरकार के खिलाफ गुस्सा बढ़ रहा है अगर आज किसानों को नजरबंद ना किया जाता तो आज भारतीय किसान यूनियन रेल चक्का जाम करती ।और केंद्र सरकार को यह संदेश साथ देने का काम किया जाता कि जब तक केंद्रीय राज्य गृह मंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करके उसके खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती तब तक आंदोलन जारी रहेगा उत्तर प्रदेश सरकार और केंद्र की बैठी मोदी सरकार दोनों किसान विरोधी सरकार है किसान की बात सुनने के लिए तैयार नहीं किसानों की आमदनी दुगनी करने का वादा करने वाली सरकार किसानों को कर्ज में डुबोकर पूंजी पतियों को बेचने का खड़यंत्र कर रही है जिसको भारतीय किसान यूनियन होने नहीं देगी कितनी भी किसानों की कुर्बानी देनी पड़े कुर्बानी से भी किसान पीछे नहीं हटेगा आज 1 वर्ष होने जा रहे हैं आंदोलन को चलते जिसमें हजारों किसान अभी तक अपनी जान गवा चुके हैं, शहीद हो चुके हैं आगे भी किसान अपनी कुर्बानी देने से पीछे नहीं हटेगा। 14 अक्टूबर से ही आज तक पुलिस की निगरानी मे हैं।एसडीएम पैलानी व सीओ सदर ग्राम बरेठी कलाँ निवासी भारतीय किसान यूनियन के मंडल अध्यक्ष बैजनाथ अवस्थी के घर पहुँचे तो उनके बाँदा जाने से रोका गया।तो उनके द्वारा महामहिम को सम्बोधित एक ज्ञापन दिया गया।वही पैलानी तहसील क्षेत्र के सभी किसान यूनियन के पदाधिकारियों के घर मे पुलिस बल लगकार उनको नजरबंद किया गया।