डीएम की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई जिला स्तरीय उद्योग बन्धु समिति की बैठक

बहराइच । जिलाधिकारी डॉ दिनेश चन्द्र की अध्यक्षता में वृहस्पतिवार को देर शाम कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय उद्योग बन्धु की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में उद्यमियों एवं व्यापारियों की समस्याओं पर विचार विमर्श कर सम्बन्धित अधिकारियों को समस्याओं का नियमानुसार निस्तारण के निर्देश दिये गये।

औद्योगिक गतिविधियों के लिए अलग विद्युत फीडर की स्थापना के सम्बन्ध में विद्युत विभाग द्वारा बताया गया कि भूमि का प्रस्ताव शासन को भेजा जा रहा है। छोटेलाल कोल्ड स्टोरेज के सामने जल भराव की समस्या के निदान के सम्बन्ध में बताया गया कि आपसी सहमति से सम्बन्धित उद्यमी अपने-अपने प्रतिष्ठानों के सामने हयूम पाइप डालने के लिए सहमत हो गये है। जिससे जल भराव की समस्या का निदान हो जायेगा।

औद्योगिक व्यापारिक सुरक्षा फोरम के तहत कृष्णा मोहन फूड्स प्रा.लि.के निदेशक शुभम केडिया के प्रकरण जिसमें सम्बन्धित फर्म द्वारा मातनहेलिया ट्रेडिंग कम्पनी बहराइच, शिवशक्ति ट्रेडिंग कम्पनी गोण्डा, कृष्ण ट्रेडर्स पयागपुर, वी.के. ट्रेडर्स सन्त कबीरनगर, सांवरिया ट्रेडर्स अमेठी व श्रावस्ती इन्फोसिस्टम बहराइच को आर.टी.जी.एस. से भुगतान किये जाने के सम्बन्ध में इण्डियन बैंक की मुख्य शाखा को भेजे गये ई-मेल को अपराधियों द्वारा खाता संख्या, नाम व आई.एफ.एस.सी. कोड बदलकर साइबर ठगी द्वारा रू. 10,03,019=00 की धनराशि निकाल ली गयी है। इस सम्बन्ध में पुलिस अधीक्षक सुजाता सिंह द्वारा बताया गया कि कार्यवाही की जा रही है।

इसी प्रकार गल्ला मण्डी एवं आसपास में स्थित औद्योगिक इकाईयों में नाला न होने के कारण वर्षा होने पर अत्यधिक जल-भराव होने की समस्या पर चर्चा के दौरान जानकारी दी गयी कि नाला निर्माण हेतु प्रस्ताव शासन को भेजा जा रहा है। जिला उद्योग केन्द्र द्वारा संचालित प्रधानमंत्री रोज़गार सृजन कार्यक्रम, मुख्यमंत्री युवा स्वरोज़गार योजना एवं ओ.डी.ओ.पी. योजनान्तर्गत बैंकों को प्रेषित आवेदन-पत्रों की समीक्षा में पाया गया कि 510 प्रेषित आवेदन’पत्रों के सापेक्ष 59 को स्वीकृत प्रदान कर मात्र 12 में वितरण की कार्यवाही की गयी है। इस स्थिति का कड़ा संज्ञान लेते हुए डीएम डॉ. चन्द्र द्वारा निर्देश दिये गये कि लापरवाह बैंकों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही के सम्बन्ध में लीड बैंक प्रबन्धक के माध्यम से सक्षम स्तर पर पत्राचार किया जाय।

ईज़ ऑफ डूईंग बिजनेस की समीक्षा के दौरान बताया गया कि उद्यम से सम्बन्धित 23 विभागों से समस्त प्रकार की अनापत्तियॉ/सहमति आदि के लिए वेबसाइट निवेशमित्र डाट यूपी डाट एनआईसी डाट इन पर रजिस्ट्रेशन करते हुए अनापत्ति/सहमति प्राप्त की जा सकती है। प्राप्त आवेदन-पत्रों की समीक्षा में ज्ञात हुआ कि अब तक प्राप्त हुए 4173 आवेदन-पत्रों के सापेक्ष 3765 स्वीकृत हुई हैं जबकि 293 निरस्त हो गयीं हैं। बताया गया कि समय अन्तर्गत 40 तथा समय सीमा उपरान्त 16 आवेदन-पत्र लम्बित हैं। जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिया कि समय उपरान्त लम्बित सभी आवेदन-पत्रों का तत्काल निस्तारण करा दिया जाय।    

इस अवसर पर एसपी सुजाता सिंह, सीडीओ कविता मीना, एडीएम मनोज, सीआरओ अवधेश कुमार मिश्र, नगर मजिस्ट्रेट अनिल कुमार सिंह,एसडीएम सदर सौरभ गंगवार आईएएस, नानपारा राम आसरे वर्मा, पयागपुर कीर्ति प्रकाश भारती, कैसरगंज महेश कुमार कैथल, महसी एस. एन. त्रिपाठी, मोतीपुर ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी, एलडीएम अमित गौरव, जीएमडीआईसी मोहन कुमार शर्मा व अन्य सम्बन्धित अधिकारी, अध्यक्ष गल्ला उद्योग व्यापार मण्डल गौरी शंकर भानीरामका, वरिष्ठ उपाध्यक्ष उद्योग बृजमोहन मातनहेलिया, सहित अन्य उद्यमी व व्यापारी मौजूद रहे।