पुत्र रत्न की प्राप्ति महामंडलेश्वर ने दिया आशीर्वाद आशीर्वाद

जखनियां/ गाजीपुर। क्षेत्र के मंझनपुर में विनोद गिरि के पुत्र रत्न प्राप्ति के सत्ताइसवें अवसर पूज्यपाद सिद्ध पीठ हथियाराम के पीठाधीश्वर महामण्लेश्वर भवानी नंदन यति महाराज के आशीर्वाद और विशिष्ट जनों के स्वागतके  कार्यक्रम का आयोजन किया गया। महाराज श्री ने अपने उद्बोधन में कहा कि- सर्वप्रथम नवजात शिशु की मंगलकामना। दीर्घायु  के प्रति आशीर्वचन।वंश परम्परा के सम्वर्द्धन में मात‌शक्तियो को नमन करते हुए कहा कि साधक को साधना प्रिय होती है। परन्तु गृहस्थ धर्म के पालन और निर्वहन में जीवात्मा को विस्मृत करना अनुचित है। गृहस्थ धर्म के सम्वृधि के लिए पुत्र रत्न की प्राप्ति आवश्यक है।मुसलाधार बारीस में  शिष्य आमंत्रित शिष्ट विशिष्ट लोग कह से मस नहीं हुए।

जिसमे क्षेत्र की प्रमुख राजनीतिक शैक्षिक और सामाजिक हस्तियों ने शिरकत किया। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि श्री पूज्यपाद को माल्यार्पण कर किया गया। तत्पश्चात शिष्ट विशिष्ट जनों का भी माल्यार्पण कर स्वागत किया गया।इस मौके पर भाजपा नेता प्रभुनाथ चौहान, वृजेन्द्र राय,डा०संतोष यादव,अनिल‌ पाण्डेय, दयाशंकर सिंह,संजय पाण्डेय, डा०संतोष मिश्र, गौरीशंकर पाण्डेय, कमलेश यादव,अजित पाण्डेय, अजित मोदनवाल, अवधेश यति, मीनू पाण्डेय, श्यामपूजन सिंह, ओमप्रकाश राम लालजी गौड़, पारसनाथ मिश्र,गनेश गुप्ता, रघुनाथ प्रेमसागर गिरि आदि उपस्थित थे। अध्यक्षता डा०संतोष यादव और संचालन रिपूंजय सिंह ने किया।