योगी सरकार ने दी विपक्षी प्रतिनिधिमंडलों को लखीमपुर जाने की अनुमति

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने लखीमपुर कांड के बाद राजनीतिक दलों या किसी अन्य संगठन के प्रतिनिधियों के लखीमपुर खीरी जाने पर लगाई रोक हटा ली है। उत्तर प्रदेश सरकार ने विपक्ष के प्रतिनिधिमंडलों को लखीमपुर जाने की अनुमति दे दी है।इसके साथ ही कांग्रेस नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल, पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी को लखीमपुर खीरी जाने की परमिशन मिल गई है। गृह विभाग से परमिशन के बाद 5 लोगों का प्रतिनिधिमंडल लखीमपुर खीरी आएगा। शाहजहांपुर दौरे पर निकले समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव भी लखीमपुर जा सकते हैं। आप नेता संजय सिंह के भी लखीमपुर जाने की खबर है। इस बीच कांग्रेस की तरफ से एक और नेता सचिन पायलट सड़क मार्ग से लखीमपुर खीरी पहुंच रहे हैं।

 आज सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारीयों के साथ हुई एक बैठक के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी सहित तमाम विपक्षी नेताओं को लखीमपुर जाने की इजाजत दे दी। राहुल गांधी पहले सीतापुर के गेस्ट हाउस पहुंचेंगे, जहां प्रियंका गांधी को रखा गया है। प्रियंका को रिहा करने के बाद ये लोग लखीमपुर खीरी के लिए रवाना होंगे। राहुल और प्रियंका लखीमपुर हिंसा में मारे गए चार किसानों के पीड़ित परिवार से मिलेंगे । लखीमपुर खीरी में धारा 144 लगी है. इसी के उल्लंघन को लेकर प्रियंका गांधी को गिरफ्तार किया गया था। आज राहुल गांधी ने ऐलान किया है कि वह लखीमपुर खीरी जाएंगे।इस दौरान उनके साथ सिर्फ तीन लोग रहेंगे। इनमें छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी शामिल हैं। राजस्थान से सचिन पायलट सड़क मार्ग से लखीमपुर खीरी पहुंच रहे हैं।