बेजुबान पशुओं के मौत का जिम्मेदार आखिर कौन

कटरा बाजार /गोंडा । 9.97 लाख से बने गौआश्रय केन्द्र मे बेजुबान मरने को बेवश है  नक्हा मे स्थित गौआश्रय केंन्द्र की हालत बहुत दयनीय है जहां पर 105 जानवरो को केवल सूखा भूसा के अलावा कुछ नही मिलता  सूखा भूसा खाते खाते एक गाय की मौत हो गयी। गौआश्रय की देख रेख के लिए  वहा पर रहने वाले इटावा के शिवदयाल ने बताया कि महीनो से यहा जानवरो को सिर्फ भूसा ही दिया जा रहा है चोकर तो  अभी तक हमने यहा देखा ही नही। नक्हा के  राम नेवाज पांडे, जगदंबा मिश्र,कृष्ण मोहन पांडे, सरयू सरण,जगतपाल, रघुराज आदि ने बताया कि यहा पर बने गौशाला की स्थित ठीक नही है ।

यहा आये दिन पशु बीमार होकर मर रहे है वही नक्हा के प्रधान हरिशंकर पांडे ने बताया कि 30 रूपये प्रतिदिन पशुओं को चारे के लिए मिलने वाला पैसा मई से नही आ रहा है पांच माह से पैसा न आने के कारण यहां लगभग 105 पशु है जिनको प्रतिदिन चारा पानी देना पड़ता है पैसा न मिलने से केवल भूसा ही दिया जा रहा है चोकर के लिए पैसे कहा से लाये। जैसे तैसे भूसे का इंतजाम कर जानवरो को दिया जा रहा है। शिवदयाल ने बताया कि एक गाय जो सूखा भूसा खाते खाते मर गयी और कई मरणाशन की स्थित मे है क्या करे साहब जो आ रहा है वही खिला रहे है महीनो से जानवरो को हरा चारा व चोकर नही मिला है जिससे व कमजोर होकर मर रहे है।