पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने लखीमपुर खीरी में प्रदर्शन कर रहे किसानों के मारे जाने की कड़े शब्दों में की निंदा

पंजाब : पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने रविवार को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में प्रदर्शन कर रहे चार किसानों के मारे जाने की कड़े शब्दों में निंदा की। इन किसानों की उस समय मौत हो गई जब एक केंद्रीय मंत्री के पुत्र के काफिले की एक कार शांतिपूर्वक ढंग से विरोध कर रहे किसानों पर चढ़ गई। उधर, मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने मृतक किसानों के प्रति दुख व्यक्त किया।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों की एक टीम लखीमपुर खीरी भेजी है, जिससे इस मामले से संबंधित उचित जानकारी जुटाई जा सके और पीड़ितों को हर तरह के सहयोग का भरोसा दिया जा सके। उन्होंने आरोप लगाया कि किसान सड़क किनारे धरना दे रहे थे और केंद्रीय मंत्री के काफिले को काले झंडे दिखा रहे थे। यह सिर्फ प्रतीकात्मक विरोध था लेकिन मंत्री के पुत्र के काफिले में एक कार प्रदर्शनकारियों के ऊपर से गुजर गई। इससे चार किसानों की मौके पर ही मौत हो गई।

पंजाब के उपमुख्यमंत्री ने दोषियों को तुरंत गिरफ्तार करने और उनके विरुद्ध कत्ल का केस दर्ज करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि यह भाजपा नेता के हाथों किसानों का बेरहमी से किया गया कत्ल है जबकि किसान शांतिपूर्वक विरोध कर रहे थे। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लिए यह परीक्षा की घड़ी है। अब देखना है कि क्या वह दोषियों को गिरफ्तार करके अपने राजधर्म का पालन करते हुए किसानों के साथ न्याय करेंगे या नहीं। पीड़ितों को न्याय का वादा करते हुए रंधावा ने कहा कि पंजाब सरकार उनको हर अपेक्षित सहायता मुहैया करवाएगी। 

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने रविवार को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई घटना की कड़ी आलोचना की। चन्नी ने कहा है कि इस दर्दनाक और अमानवीय कृत्य की कड़े शब्दों में सभी के द्वारा निंदा की जानी चाहिए। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा, जिससे पीड़ित परिवारों को इंसाफ मिल सके। मुख्यमंत्री ने परमात्मा के समक्ष अरदास की है कि वह इस दुख की घड़ी में परिवार को अपूरणीय क्षति को सहने का बल प्रदान करें और दिवंगत आत्मा को शांति दें।