गाय के गोबर से बने दीयों से जगमगायेगी दीपावली

सहारनपुर। इस बार दीपावली गाय के गोबर से बने दीयों से जगमगायेगी। नगर निगम इसके लिए कान्हा उपवन गौशाला में एक लाख दीये तैयार करवा रहा है। जिन्हें नगर निगम परिसर, दिल्ली रोड़ तथा शहर के विभिन्न स्थानों पर स्टॉल लगाकर शहर के लोगों को उपलब्ध कराया जायेगा। नगरायुक्त ज्ञानेन्द्र सिंह ने कान्हा गौशाला में बनाये जा रहे इन दीयों का शनिवार को अवलोकन करते हुए तैयारियों का जायजा लिया। 

नगरायुक्त ज्ञानेन्द्र सिंह ने  बताया कि दीपावली पर विभिन्न प्रकार के प्रदूषण से बचाव के लिए नगर निगम शहर में इकोफ्रेन्डली दीपावली मनवाने की दिशा में यह प्रयास कर रहा है। उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य लोगों को स्वास्थ्य के प्रति सचेत करना और स्वस्थ वातावरण तथा प्रदूषण मुक्त दीपावली मनाने के लिए प्रेरित करने के साथ-साथ गाय और गोबर के महत्व से लोगों को अवगत कराना है। नगरायुक्त ने जानकारी देते हुए बताया कि गाय के गोबर से निर्मित दीयों की लौ से निकले धुएं से कीटाणु और मच्छर दूर भागते हैं और वातावरण शुद्ध होता है। उन्होंने कहा कि लक्ष्मी पूजन में भी गोबर से निर्मित दीयों के उपयोग का काफी महत्व माना जाता है। 

नगरायुक्त ने बताया कि नगर निगम द्वारा संचालित कान्हा उपवन गौशाला में इस वर्ष एक लाख दीये गाय के गोबर से निर्मित कराये जा रहे हैं। दीयों को आकर्षक बनाने के लिए उन्हें विभिन्न इकोफ्रेन्डली रंगों से रंगा जा रहा है। आगामी वर्षों में यह संख्या कई गुणा अधिक रहेगी। उन्होंने बताया कि गाय का गोबर मोबाईल के रेडिएशन से भी लोगों को बचा सकता है। ताज़ा गोबर सात दिन तक रेडिएशन से सुरक्षा कर सकता है। नगरायुक्त ने लोगों से आहवान किया कि वह वातावरण को पवित्र करने और प्रदूषण मुक्त दीपावली मनाने के लिए गाय के गोबर से निर्मित दीयों का उपयोग करें और इकोफ्रेन्डली दीपावली मनायें। उन्होंने बताया कि निगम की गौशाला में गोमूत्र से गोनाईल नाम से बनाये जा रहे फिनाईल, गोबर से निर्मित जैविक खाद आदि भी उक्त स्टॉलों पर बिक्री के लिए उपलब्ध रहेगा।