भक्ति धारण करना ही जीव के मोक्ष का मार्ग: कालेन्द्रानंद

सहारनपुर। गोविंद नगर में चल रही श्रीमद भागवत कथा में आज दूसरे दिन कथा व्यास स्वामी कालेन्द्रानंद महाराज ने कहा कि भक्ति धारण करना ही जीव के मोक्ष का मार्ग है। श्रीमद भागवत कथा में हरिनाम महिमा का वर्णन करते हुए स्वामी जी ने कहा कि श्री हरि की कृपा से ही सब कुछ संभव है, जो केवल भक्ति है के मार्ग में चलने पर ही संभव है। प्रहलाद और धु्रव जैसे परम भक्त जिन्होंने अल्पायु में ही कठोर तप कर श्रीहरि को प्राप्त कर अपने जीवन को अमरत्व गाधा में परिवर्तित कर दिया।

महाराज ने कहा कि जीवन में धर्म का मर्म जाने बिना जीव की सदगति संभव नहीं है। जीवन का मूल सार हरि दर्शन कर मोक्ष प्राप्त करना हैजो समर्पित भाव से श्रीहरि नाम में रमण करते हैं, प्रभु उनका सदगति प्रदान कर परम पद प्रदान करते हैं। इस अवसर पर योगेश तिवारी, कमला, ललता, बबीता, राखी, सुमन, कविता, रेखा,पूनम, वासुदेव, ऋषभ कौशिक, आचार्य धर्मेन्द्र शास्त्री, अजित शर्मा आदि मौजूद रहे।