एक बार फिर सोचिए

आज शाहरुख खान का बेटा हिरासत में पहुंचा हैं ,क्या कारण हैं?शाहरुख खान ने एक बार बोला था कि जो मैं अपनी जवानी में नहीं कर पाया वो में अपने बेटे को करने दूंगा क्या ऐसी मंशा होती हैं किसी भी अभिभावक की, कि उसका बच्चा नशे में लिप्त हो? अपनी प्रसिद्धि के नशे में सब देश के प्रति अपना कर्तव्य भूल जाते हैं।फिर उसमे नशे की बात हो या देश विरुद्ध बयानबाजी हो।जिस देश में तुम रह रहे हो उसी के बारे में वाणी विलास सही नहीं हैं, आज जो नाम और ऐश्वर्य तुम्हारे पास हैं वह इसी देश ने तुम्हे दिया हैं।ये आज की बात नहीं है इन लोगो ने अपनी दुनियां ही ऐसी बनाई हैं जहां नैतिकता और जीवनमूल्यों का कोई मोल ही नहीं हैं अगर पुरानी बाते देखें तो सब मिथ्या लगेगा जैसे सिनेमा के पटल पर होता हैं,एकदम क्षणिक।

कुछ समय पहले आमिर खान और किरण (खान) के वैवाहिक जीवन की समाप्ति की बात सुन  मन में खयाल आया कि अपने आप को समाज का दर्पण समझने वाले लोग अपने फैंस को  कैसा रोलमॉडल देंगे?

वैसे तो राजकपूर को छोड़ नर्गिस ने अपने से छोटे सुनिलदत्त से शादी की।गीता दत्त और गुरु दत्त की प्यार भरी जिंदगी में वहीदा रहमान का दखल।किशोर कुमार की तीन तीन शादियां,धर्मांद्र और मीना कुमारी की प्रेम कहानी किसी से भी छुपी नहीं हैं।और बाद में हेमा मालिनी से प्यार और शादी।और रेखा की कहानी से सब परिचित हैं।विनोद मेहरा से अमिताभ बच्चन तक और बाद में मुकेश अग्रवाल से शादी।और मुकेश की मौत के बाद मांग में १० ग्राम सिंदूर आश्चर्य की बात नही है क्या?

 ये कहानियां सुरैया,नर्गिस से ले कर आलिया भट्ट तक ,सब ने एक के साथ संबध छोड़ दूसरे और कभी तो तीसरे के साथ भी रिश्ते बना लेते है।शादी तक बात पहुंच ने के बाद भी रिश्ता खत्म होते हुए देखे है। प्रमाण दीपिका पादुकोण और रणवीर कपूर का  प्यार और शादी रणवीर सिंघ से। इसमें कैटरीना कैफ पहले सलमान खान के साथ,फिर रितिक रोशन और रणवीर कपूर के साथ,रणवीर कपूर के साथ  तो शादी तक बात पहुंची और फिर सब समाप्त।अब रणवीर कपूर आलिया भट्ट से शादी करेगा ऐसा सुनाई देता हैं।

 ऐसे तो अनगिनत किस्से है शायद हरेक नायक और नायिका की एक नहीं अनेक रिश्ते रहे उसमें से कुछ का तो अंजाम बहुत बुरा भी हुआ जैसे परवीन बॉबी,दिव्या भारती,श्रीदेवी और कितनी भी अभिनेत्रियां!

दुनिया भर की बेइमानिया और काले काम करने वालों और करोड़ों कमाने वालों और अपना अंपायर खड़ा करने वालों की नैतिक हैसियत कितनी रह जाती है जब उनको हिरासत में लिया जाता हैं,एकदम घिनौना गुनाह करने की वजह से,जिस में अपने देश की नारी के सम्मान को ठेस!नहीं ठेस नहीं नारी के सम्मान को विदेशों में बेचने वाले इन भेड़ियों के लिए मौत भी छोटी सजा होगी।कुंद्रा साब क्यों अपनी बीवी की ऐसी फिल्में बनाते नहीं,वह भी तो हीरोइन हैं।

ऐसी हीरोइनें भी कैसे बड़े बड़े शो में आके तन के खड़ी होती हैं,शर्म हया छोड़ के? अब कैसे सामना करेंगी जनता का जिसने इतने मान सम्मान दिया? ये तो अभी एक ही है जो सामने आया हैं फिल्मी दुनियां में सिर्फ यही कुछ भरा पड़ा हैं तो क्यों देखे हम अपनी मेहनत की कमाई लूटा कर इन अनैतिक लोगो की फिल्में?

 अब जिनको अपना युवा धन  अपना आदर्श मानते है। उनके जैसे कपड़े और स्टाइल्स करते है उनके उपर इन सब कथित प्रेम सम्बन्ध और उसके अंत क्या प्रभाव पड़ेगा। कहां से लायेंगे जीवन के लिए आदर्श ,रोल मॉडल ये सोचने वाली बात हैं, समाज की अग्रणियो के लिए।कौन जिम्मेवार हैं आज के समाज के नैतिक पतन के लिए? जरा सोचिए।


जयश्री बिर्मी

अहमदाबाद