ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करेगा लहसुन और दालचीनी, इस तरह करें सेवन

वर्तमान समय में खराब खानपान, कोई फिजिकल एक्टिविटी न करना और अस्वस्थ जीवनशैली के कारण लोग युवावस्था में ही गंभीर बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। ऐसी ही एक बीमारी है डायबिटीज की। बॉडी में जब पैन्क्रियाज इंसुलिन हार्मोन का उत्पादन कम या फिर बंद कर दे तो इसके कारण लोग डायबिटीज यानी मधुमेह की चपेट में आ जाते हैं। मधुमेह एक लाइलाज बीमारी है, जिसमें ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करना बेहद ही जरूरी होता है।

शरीर में इंसुलिन की कमी के कारण खून में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाता है, जो कभी-कभी मरीज के लिए जानलेवा भी साबित हो सकता है। गंभीर मामलों में तो हार्ट अटैक, ब्रेन स्ट्रोक, किडनी फेलियर और मल्टीपल ऑर्गन फेलियर की स्थिति भी पैदा हो जाती है। इसलिए स्वास्थ्य विशेषज्ञ डायबिटीज के मरीजों को अपने खानपान का विशेष रूप से ध्यान रखने की सलाह देते हैं। दवाइयों के साथ-साथ कुछ घरेलू उपाय भी हैं, जिनके जरिए खून में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित किया जा सकता है।

लहसुन और दालचीनी: औषधीय गुणों से भरपूर लहसुन का इस्तेमाल यूं तो खाने के स्वाद को बढ़ाने के लिए किया जाता है। लेकिन इसी के साथ यह ब्लड शुगर लेवल को भी कंट्रोल करने में मदद करता है। लहसुन में मौजूद अमीनो एसिड होमोसिस्टीन रक्त शर्करा के स्तर को काबू में रखता है। वहीं दालचीनी का सेवन करने से भी डायबिटीज के मरीजों को फायदा मिलता है। यह ना सिर्फ ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करती है बल्कि कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी नियंत्रित करती है, जिससे हार्ट की बीमारी होने की संभावनाएं कम हो जाती हैं।

इस तरह करें दालचीनी और लहसुन का सेवन: डायबिटीज के मरीज लहसुन और दालचीनी से चाय बनाकर पी सकते हैं। नियमित तौर पर इस चाय का सेवन करना फायदेमंद साबित हो सकता है।

इसके लिए लहसुन की दो कलियों को छीलकर उन्हें पीस लें। फिर एक गिलास पानी को बर्तन में डालकर गैस पर चढ़ाएं। अब इसमें पीसा हुआ लहसुन और थोड़ा-सा दालचीनी का टुकड़ा डालें। जब यह पानी अच्छी तरह से उबलकर आधा रह जाए तो गिलास में छानकर इसका सेवन करें। स्वास्थ्य विशेषज्ञ मानते हैं कि रोजाना दालचीनी और लहसुन से बनी चाय पीने से ब्लड शुगर लेवल नियंत्रित रहता है।