मनीष की पत्नी को बरगला रहे अफसर

लखनऊ। गोरखपुर घूमने आए प्रॉपर्टी डीलर की हत्या के मामले में पुलिस वालों पर एफआईआर दर्ज होने के पहले का एक हैरान करने वाला वीडियो सामने आया है जो व्यवस्था तंत्र को ही कटघरे में खड़ा कर रहा है। इसमें गोरखपुर के डीएम विजय किरण आनंद और एसएसपी डॉ. विपिन टाडा बीआरडी मेडिकल कॉलेज पुलिस चौकी में एक बंद कमरे में पीड़ित परिवार से एफआईआर नहीं करवाने की बात कह रहे हैं। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में अधिकारी परिवार को समझा रहा है कि एफआईआर दर्ज होने पर पुलिसवालों का परिवार बर्बाद हो जाएगा। एफआईआर नहीं करने के लिए नौकरी का प्रलोभन भी दिया जा रहा है, लेकिन मृतक की पत्नी मौत के बदले सजा की बात पर अड़ी हुई है। वीडियो में ये भी कहते हुए सुना जा सकता है कि मुकदमें तो लंबे चलते हैं। उन्हें न्याय नहीं मिल पाएगा। वीडियो से साफ हो जाता है कि अधिकारी पुलिसकर्मियों को बचाने में लगे हुए हैं। इसके अलावा सोशल मीडिया पर मृतक मनीष की पत्नी मीनाक्षी का वीडियो वायरल हुए था। वीडियो में वो अपने पति के लिए न्याय की गुहार लगा रही हैं।मेरे पति को ड्यूटी पर तैनात 6 पुलिसकर्मियों से मार डाला। हमने अभी तय नहीं किया है कि उनके शव का अंतिम संस्कार कब किया जाएगा। कानपुर के प्रॉपर्टी डीलर की हत्या के मामले में आईपीसी की धारा 302 के तहत केस दर्ज किया गया है। प्रॉपर्टी डीलर की हत्या के मामले में 3 पुलिसकर्मियों समेत 6 के खिलाफ गोरखपुर के रामगढ़ताल में केस दर्ज किया गया है। हत्या के मामले में एसओ जेएन सिंह, उपनिरीक्षक अक्षय मिश्रा, उपनिरीक्षक विजय यादव और 3 अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया गया है।