विकास कार्यो की मासिक समीक्षा बैठक सम्पन्न

बहराइच। शासन के सर्वोच्च प्राथमिकता वाले 37 सूत्रीय विकास कार्यक्रमों की मासिक समीक्षा हेतु मंगलवार को देरशाम आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र ने निर्देश दिया कि आनगोईंग प्रोजेक्ट्स को निर्धारित मानक व समयबद्धता के साथ पूर्ण करायें। डीएम डॉ. चन्द्र ने कार्यदायी संस्थाओं व प्रशासकीय विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिया कि नियमिति रूप से कार्यस्थल का निरीक्षण कर परियोजनाओं को पूर्ण कराये साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि जो प्रोजेक्ट पूर्ण हो गये हैं उन्हें उपयोग में लाया जाय।

राजकीय विभागों के विद्युत भुगतान की समीक्षा के दौरान बेसिक शिक्षा विभाग व पंचायती राज विभाग के स्तर पर विद्युत बिल बकाया होने पर कड़ी नाराज़गी व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी ने शासन को पत्र भिजवाये जाने का निर्देश दिया। मार्गों के अनुरक्षण की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने अधि.अभि. लो.नि.वि. को निर्देश दिया कि एन.एच. से समन्वय कर जरवल फ्लाई ओवर के निकट जल भराव की समस्या का तत्काल समाधान कराये जाने का निर्देश दिया। निर्माण कार्यों की समीक्षा के दौरान जिला विद्यालय निरीक्षक को निर्देश दिया गया कि पूर्व में आवंटित की गयी धनराशि के सापेक्ष उपभोग प्रमाण-पत्र उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।

निराश्रित गोवंश संरक्षण की समीक्षा के दौरान डीएम ने निर्देश दिया कि गो-आश्रय स्थलवार जिला स्तरीय अधिकारियों को सुपर नोडल अधिकारी नामित करायें। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया गया कि टीकाकरण तथा एअर टैगिंग को बढ़ाया जाय। स्वास्थ्य भवनों के निर्माण कार्य की धीमी प्रगति पाये जाने पर डीएम ने कड़ी अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए कार्यदायी संस्था आवास विकास को नोटिस जारी करने के निर्देश दिये गये। जिला चिकित्सालय में सिटी स्कैन की स्थापना में विलम्ब होने पर कड़ी नाराज़गी व्यक्त करते हुए डीएम ने मेडिकल कालेज के प्राचार्य व मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से स्पष्टीकरण प्राप्त किये जाने का निर्देश दिया साथ ही यह भी कहा कि जिला चिकित्सालय में दवाओं की उपलब्धता में सुधार लाया जाय।

सामुदायिक शौचालय व पंचायत भवनों के निर्माण कार्य की समीक्षा हेतु सीडीओ को अलग से बैठक करने के साथ-साथ उप जिलाधिकारी सदर को 02 बड़े गॉवों का सत्यापन करने का डीएम ने निर्देश दिया। आपरेशन कायाकल्प अन्तर्गत हुए 95 प्रतिशत कार्यो के सापेक्ष मात्र 11 प्रतिशत कार्यों की जीयो टैगिंग की कार्यवाही पर अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए डीपीआरओ, बीएसए, डीपीओ व एडीओ पंचायत से स्पष्टीकरण प्राप्त किये जाने के निर्देश दिये गये। इसके इलावा डीएम ने प्रत्येक ब्लाक के कम से कम रिबोर कराये गये 10-10 हैण्डपम्पों का सत्यापन कराये जाने का भी निर्देश दिया। बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने अन्य बिन्दुओं की भी समीक्षा करते हुए सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये।

इस अवसर पर सीडीओ कविता मीना, नगर मजिस्टेट अनिल कुमार, एसडीएम सदर सौरभ गंगवार आईएएस, सीओ सिटी विनय कुमार दुबे, सीएमओ डा. एस.के. सिंह, सीवीओ डा. बलवन्त सिंह, उप निदेशक कृषि टी.पी. शाही, डीएसटीओ डा. अर्चना सिंह सहित अन्य सम्बन्धित मौजूद रहे।