फर्जी नियुक्ति पत्र थमा कर बेरोजगार युवकों से की लाखों की ठगी

वन विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर लिए 3.57 लाख रुपए

आजमगढ। वन विभाग में नौकरी के नाम पर फर्जी नियुक्ति पत्र देकर दो युवाओं से लाखों रूपये हड़पने के मामले में पीड़ित युवाओं ने पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर पहुंचकर ठग के खिलाफ कार्रवाई करने व उनके रूपये दिलाने की मांग की। पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर पहुंचे संदीप व मजहर मेंहनगर थाना क्षेत्र के बलेलपुर गांव के रहने वाले है। उनका आरोप है कि उनके ही गांव में करोति गांव निवासी इंद्रेश कुमार नामक युवक की ससुराल है। इन्द्रेश के बहकावे में आकर संदीप ने बैंक अकाउंट एवं नगद सहित कुल दो लाख पैंतालीस हजार रुपए) और उसके दोस्त मजहर आलम ने एक लाख बारह हजार रुपए अकाउंट में और नगद के रूप में दे दिये और नियुक्ति पत्र लेकर जब वह लखनऊ में पहुंचे पता चला कि नियुक्ति पत्र फर्जी है। जिसके बाद उन्होने इन्द्रेश से रूपये की मांग की तो उसने जान से मारने की धमकी दी। मजहर आलम ने बताया कि इंद्रेश कुमार के ससुर और साले ने भी पैसे देने के लिए कहा था और कुछ नगद पैसे उसने इंद्रेश कुमार के साले और ससुर को दिए। मजार आलम ने बताया कि इस गिरोह का सरगना जौनपुर जनपद के चंदवक का रहने वाला नीलकमल मौर्या है। पैसा मांगने पर वह अब जान से मारने की धमकी देता है। पीड़ितों ने इस संबंध में मेहनगर थाने में आरोपियों के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत कराया। जिसमें मुकदमा दर्ज होने के अभी आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। पीड़ित युवको ने गुरुवार को पुलिस अधीक्षक से कार्रवाई की मांग की।