क्या नाश्ते में रोज ब्रेड खाना सेहत के लिए सही? जानिए एक्सपर्ट की राय

भागदौड़ भरी इस जिंदगी में कुछ लोग रोडी-टू-ईट फूड्स पर ध्यान देते हैं। खासकर नाश्ते में लोग ब्रेड जैम, टोस्ट, ब्रेट-बटर खाना पसंद करते हैं क्योंकि इस बनाने के लिए घंटों मेहनत नहीं करनी पड़ती। इससे पेट भर जाता है और इंस्टेंट एनर्जी भी मिलती है। मगर, क्या वाकई ब्रेकफास्ट में ब्रेड खाना सेहत के लिए फायदेमंद होता है। कहीं इसका सेवन शरीर में शुगर लेवल तो नही बढ़ा रहा? चलिए आपको बताते है कि ब्रेड खाना सेहत के लिए ठीक है या नही...

क्या रोज ब्रेड का सेवन हानिकारक होता है?

एक्सपर्ट की मानें तो ब्रेड से सेहत पर पॉजिटिव और नेगेटिव दोनों ही तरह के प्रभाव पड़ सकते हैं लेकिन फिर भी लिमिट में ही इसका सेवन करना चाहिए। रिसर्च की मानें तो मैदे से बनी ब्रेड सेहत के लिए हानिकारक हो सकती है। इससे पेट से जुड़ी समस्याएं जैसे कब्ज, अपच, पेट दर्द हो सकता है क्योंकि इसे पचने में काफी समय लगता है।

रोजाना ब्रेड खाने से हो सकते हैं ये नुकसान

वजन बढ़ाए

रोजाना ब्रेड का सेवन वजन बढ़ा सकता है। इसमें कार्ब्स, नमक, चीनी अधिक होती है जिससे बॉडी में फैट जमा हो जाता है और वजन बढ़ने लगता है।

हाई ब्लड शुगर

जहां एक तरफ ब्रेड समय बचाता है वहीं दूसरी और इससे शुगर लेवल बढ़ सकता है। दरअसल, इसमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स ज्यादा होता है जो खून में शुगर की मात्रा बढ़ा देता है। इससे भविष्य में डायबिटीज होने का खतरा रहता है।

कब्ज की समस्या

अगर आप बहुत ज्यादा सफेद ब्रेड खाते हैं तो आपको कब्ज की समस्या हो सकती है। ब्रेड में फाइबर कम और फ्रुक्टोज कॉर्न शुगर ज्यादा होता है, जिससे पाचन तंत्र खराब रहता है। वहीं, इससे मेटाबॉलिज्म धीमा हो जाता है, जिससे खाना पचाने में दिक्कत होती है।

नींद और आलस 

आमतौर पर देखा जाता है कि ब्रेड खाने के बाद आलस और नींद महसूस होने लगती है। ऐसा इसलिए क्योंकि इसमें स्टार्च की मात्रा ज्यादा होती है। डाइजेशन प्रोसेस के दौरान स्टार्च, ग्लूकोज के बेसिक फॉर्म में टूट जाता है जिससे मूड भी प्रभावित हो सकता है और आप आलस भी महसूस करते हैं।

गैस्ट्रिक का कारण 

कुछ लोगों को नाश्ते में ब्रेड खाने से एसिडिटी, सीने में जलन, पेट में जलन या खट्टी डकारों भी आने लगती है। दरअसल, ये प्रॉब्लम उन लोगों को रहती है, जिन्हें ब्लॉटिंग की समस्या हो। वहीं, कुछ लोगों का पेट ब्रेड को पचा नहीं पाता, जिससे उन्हें ये समस्याएं हो सकती हैं।

तो नाश्ते में क्या खाएं?

. वैसे तो आप लिमिट में इसका सेवन कर सकते हैं लेकिन रोजाना ब्रेड खाएं।

. आप ब्रेड खाना ही चाहते हैं तो होल ग्रेन्स, साबुत अनाज, बीज या नट्स की ऑप्शन चुनें। इसमें कई पौष्टिक तत्वों के अलावा हाई फाइबर होता है जिससे यह आसानी से डाइजेस्ट हो जाती है।

. नाश्ते में प्रोबायोटिक्स फूड्स जैसे दूध, दही, अंडे, पनीर और योगर्ट का सेवन करें। ऐसा आहार पेट में गुड बैक्टीरिया को बढ़ावा देता है।

. फाइबर युक्त आहार जैसे ओट्स, दलिया आदि का सेवन भी नाश्ते के लिए हैल्दी ऑप्शन है।

याद रखिए... नाश्ता दिन का सबसे जरूर भोजन है क्योंकि इससे मेटाबॉलिज्म बूस्ट होता है, जिससे आपको दिनभर एनर्जी मिलती है। ऐसे में बहुत जरूरी है कि आप नाश्ते में हैल्दी चीजें खाएं। अगर दिन की शुरूआत ही गलत होगी तो आप दिनभर सुस्ती व थकान ही महसूस करेंगे।