बढ़ रहा वायरल फीवर का खतरा, ये देसी उपाय देंगे बुखार को मात

मौसम में बदलाव आने से बीमारियों की चपेट में आना आम बात है। इस दौरान खासतौर पर वायरल फीवर होने का खतरा रहता है। ऐसे में आप कुछ बातों का ध्यान रख कर इससे बच सकती है। वही बुखार होने पर आप इन टिप्स को अपनाकर जल्दी रिकवर हो सकती है। चलिए जानते हैं इन देसी नुस्खों के बारे में...

पहले जानते हैं वायरल फीवर होने के लक्षण.....

. गले में दर्द व खराश होना

. सिर में भारीपन व दर्द की शिकायत रहना

. जोड़ों में दर्द

. अचानक से बुखार हो जाना

. आंखें लाल होना

. खांसी-जुकाम होना

. जी मिचलाना

. कमजोरी व थकान महसूस होना

. पेट खराब होना

इन बातों का रखें ध्यान

. अगर आपको ऐसे लक्षण दिखे तो अलग कमरे में रहें। ताकि घर के बाकी सदस्यों में यह फैले ना।

. तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। साथ ही समय पर दवा खाएं।

. आराम करें।

. डेली डाइट का ध्यान रखें।

आप इन सबके बीच कुछ देसी उपाय भी अपना सकती है। चलिए जानते हैं इनके बारे में....

तुलसी

तुलसी में पोषक तत्व, एंटी-ऑक्सीडेंट्स व औषधीय गुण होते हैं। इसका काढ़ा या चाय पीने से कमजोरी, सर्दी-जुकाम आदि से आराम मिलता है। साथ ही इम्यूनिटी स्ट्रांग होने से जल्दी रिकवरी होती है। आप गुनगुने पानी में तुलसी ड्रॉप की कुछ बूंदें मिलाकर पी सकती है।

तरह पदार्थ खाएं

हेल्थ एक्सपर्ट अनुसार, इस दौरान ज्यादा से ज्यादा तरह पदार्थ का सेवन करना चाहिए। ऐसे में आप जूस, सूप, दाल का पानी आदि पी सकती है। इससे इम्यूनिटी बूस्ट होने में मदद मिलती है। साथ ही शरीर में पानी की कमी पूरी होती है। ऐसे में जल्दी रिकवरी होती है।

गिलोय का करें सेवन

बुखार दौरान इम्यूनिटी लेवल बेहद ही लो हो जाता है। ऐसे में इसे बूस्ट करने के लिए आप गिलोय का सेवन कर सकती है। इससे आपको आराम मिलेगा।

मौसमी फल खाएं

मौसमी फलों का सेवन करें। इससे इम्यूनिटी व पाचन तंत्र बेहतर होता है।

अदरक की चाय

अगर आप सर्दी, खांसी, गले में खराश आदि से भी परेशान है तो अदरक की चाय पी सकते हैं। अदरक में पोषक तत्व, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-वायरल व औषधीय गुण होते हैं। ऐसे में अदरक की चाय पीने से इम्यूनिटी बूस्ट होती है। साथ ही गले को आराम मिलता है। ऐसे में सर्दी, खांसी, जुकाम आदि की परेशानी से राहत मिलती है।