सुबह खाली पेट खाएंगे ये चीजें तो कभी नहीं बढ़ेगा यूरिक एसिड

आज हर 10 में से 8वां व्यक्ति यूरिक एसिड से परेशान है। इसकी कारण कहीं ना कहीं अनहेल्दी खानपान और खराब लाइफस्टाइल है। अगर शरीर में यूरिक एसिड का मात्रा बढ़ जाए तो गठिया, आर्थराइटिस के साथ कई बीमारियां जन्म ले सकती है इसलिए इसे कंट्रोल करना बहुत जरूरी है। चलिए आज हम आपको बताते हैं कि कैसे कंट्रोल करें यूरिक एसिड...

सबसे पहले जानिए यूरिक एसिड क्या है?

यूरिक एसिड एक तरह का केमिकल है। दरअसल, शरीर में कुछ सेल्स व खाद्य पदार्थ प्यूरीन नामक प्रोटीन बनाते हैं, जिसके ब्रेकडाउन होने पर यूरिक एसिड बनता है। आमतौर पर यह किडनी के जरिए फिल्टर होकर शरीर से बाहर निकल जाता है लेकिन जब ऐसा नहीं पाता या शरीर में इसकी मात्रा बढ़ जाती हैं तो एसिड खून में मिल जाता है। धीरे-धीरे यह क्रिस्टल्स के रूप में टूटकर हड्डियों के बीच जमा होने लगता है, जिसे हाई यूरिक एसिड कहा जाता है।

यूरिक एसिड बढ़ने के जोखिम

. घुटनों में तेज दर्द, सूजन, अकड़न

. जोड़ों में दर्द व लालिमा

. अपच और घबराहट

यूरिक एसिड बढ़ने के कारण

. बहुत अधिक शराब पीना

. अनुवांशिकता

. थायरायड

. विटामिन बी-3 की कमी

. मोटापा

. ज्यादा प्यूरीन युक्त आहार लेना

. भरपूर पानी ना पीना

.  गुर्दे का फिल्टर ना कर पाना

हाई यूरिक एसिड के लक्षण

-जोड़ों में दर्द

-उठने-बैठने में परेशानी होना

-जोड़ों में गांठ की शिकायत होना

-गांठों में सूजन

-शुगर लेवल बढ़ना

यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए सबसे जरूरी है सही खानपान व लाइफस्टाइल। इसके अलावा सुबह खाली पेट कुछ चीजों का सेवन भी इसकी मात्रा को कंट्रोल करेगा।

सेब का सिरका

खाली पेट 1 गिलास पानी में एक चम्मच सेबका सिरका डालकर पीएं। इससे शरीर को कई विटामिन्स , एंजाइम और प्रोटीन जैसे पोषक तत्व मिलते हैं, जिससे यूरिक एसिड कंट्रोल में रहता है।

नींबू पानी

1 गिलास गुनगुने पानी में नींबू कारस और शहद मिलाकर पीएं। इससे शरीर के विषैले तत्व बाहर निकल जाएंगे और यूरिक एसिड कंट्रोल में रहेगा।

अलसी के बीज

अलसी के बीजों को रातभर 1 कटोरी पानी में भिगो दें। सुबह बीजों को अच्छी तरह चबाकर खाएं। इनमें ओमेगा-3 फैटी एसिड, फाइबर, मैग्नीशियम, मैंगनीज और प्रोटीन होता है। साथ ही यह फास्फोरस का भी बेहतरीन स्त्रोत है, जिससे यूरिक एसिड नहीं बढ़ता।

सब्जियों का जूस

अगर यूरिक एसिड लेवल को कम करना चाहते हैं तो नाश्ते से ताजा सब्जियों का जूस पीना न भूलें। यह बॉडी को डिटॉक्स करने के साथ क्रिस्टल को तोड़ने में भी मदद करता है।

posted by – दीपिका पाठक