नोडल अधिकारी ने शासन की प्राथमिकता वाले विकास कार्यो एवं निर्माण कार्यो के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ की बैठक

प्रतापगढ़ : मण्डलायुक्त प्रयागराज/जनपद के नोडल अधिकारी संजय गोयल ने शनिवार को जिला पंचायत के सभागार में शासन की प्राथमिकता वाले विकास कार्यो एवं निर्माण कार्यो सहित अन्य महत्वपूर्ण बिन्दुओं के सम्बन्ध में संयुक्त आयुक्त मनोज वर्मा, जिलाधिकारी डा0 नितिन बंसल, मुख्य विकास अधिकारी प्रभाष कुमार, अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0) शत्रोहन वैश्य सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में निराश्रित गोवंश हेतु गो आश्रय स्थल के निर्माण/संचालन की समीक्षा के दौरान नोडल अधिकारी ने कान्हा गौशाला, पशु शेड निर्माण के सम्बन्ध में जानकारी ली और निर्देशित किया कि गो आश्रय स्थलों में चारा, पानी, बिजली, भूसा, आदि का समय से सतयपन सुनिश्चित किया जाये जो कमियां पायी जाये उसे दुरूस्त की जाये, पशुओं की देखरेख समय-समय पर की जाये इस कार्य में किसी भी स्तर पर लापरवाही न बरती जाये। जिलाधिकारी ने बताया कि वर्षा के दौरान गोशालाओं में कुछ समस्यायें आयी थी जिन्हें दुरूस्त करा दिया गया है एवं गोशालाओं के निर्माण का कार्य दिसम्बर तक पूर्ण कर लिया जायेगा। चिकित्सा विभाग की समीक्षा के दौरान बताया गया कि गोल्डेन कार्ड के 10 लाख लाभार्थी है जिसमें से ढाई लाख लाभार्थियों के गोल्डेन कार्ड बन गये है, पिछली महीने में कैम्प लगाकर लोगों के गोल्डेन कार्ड बनाये थे और प्रगति अच्छी है, इस माह भी गोल्डेन कार्ड के कैम्प लगाये जायेगें। आयुष्मान मित्रों के कार्यो एवं मानदेय के सम्बन्ध में नोडल अधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी से जानकारी प्राप्त की। नोडल अधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि रोगी समिति की बैठक समय-समय पर आयोजित की जाये। पंचायती राज विभाग की समीक्षा में साफ-सफाई के सम्बन्ध में जानकारी ली गयी जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा बताया गया कि साफ-सफाई करने वाले कर्मचारियों का व्हाटसएप गु्रप बनाया गया है जिसमें एडीओ पंचायत के माध्यम से साफ-सफाई के सम्बन्ध में सूचना प्राप्त होती है एवं आवश्यक दिशा निर्देश दिये जाते है। बाजारों में सफाई कर्मचारियों की टोली बनाकर सफाई का कार्य किया जाता है। नोडल अधिकारी ने यह भी जानकारी ली कि जिन सफाई कर्मचारियों द्वारा कार्य में लापरवाही बरती जाती है उनके सम्बन्ध में क्या कार्यवाही की गयी है तो बताया गया कि 44 सफाई कर्मचारियों का वेतन रोका गया है और 11 को निलम्बित कर दिया गया है। उन्होने यह भी जानकारी ली कि कितने सफाई कर्मचारियों की सेवा समाप्त कर दी गयी है तो बताया कि 02 सफाई कर्मचारी निरन्तर अनुपस्थित चल रहे है जिनकी सेवा जल्द ही समाप्त कर दी जायेगी। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन की समीक्षा के दौरान बताया गया कि ग्राम पंचायतों में सामुदायिक शौचालय जो बनाये गये है उनकी साफ-सफाई की देखरेख स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा किया जाता है और उन्हें मानदेय भी दिया जाता है। बैठक में बताया गया कि 4812 समूहों को भिन्न भिन्न कार्यो जैसे पौधरोपण, मधुमक्खी पालन आदि में जोड़ा गया है जिससे उनको रोजगार मिल रहा है।  इसके अलावा नोडल अधिकारी ने प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी एवं ग्रामीण, मुख्यमंत्री आवास योजना (ग्रामीण), पेयजल योजना, मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना, कन्या सुमंगला योजना, पेंशन व छात्रवृत्ति योजना, पोषण अभियान, शिक्षा की गुणवत्ता, ट्रांसफार्मर प्रतिस्थापन, विद्युत आपूर्ति, नहरों की सफाई/पानी की उपलब्धता, राजस्व वादों के निस्तारण, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, एक जनपद एक उत्पाद योजना सहित अन्य महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर समीक्षा की एवं अधिकारियांं को आवश्यक दिशा निर्देश दिये। उन्होने अधिकारियों को कड़े निर्देश देते हुये कहा कि केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ पात्र व्यक्तियों को अवश्य मिले, इसमें किसी भी स्तर पर लापरवाही एवं उदासीनता कदापि न बरती जाये।

नोडल अधिकारी ने 50 लाख से अधिक लागत की अधूरी परियोजनाओं के सम्बन्ध में समीक्षा की। सुवंशा में बन रहे संयुक्त चिकित्सालय के कार्य के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की तो बताया गया कि निर्माण का कार्य चल रहा है और 60 प्रतिशत धनराशि प्राप्त हो गयी है। 100 बेड संयुक्त चिकित्सिलय रानीगंज का निर्माण कार्य अभी पूर्ण नही है शासन से धनराशि प्राप्त होने पर पूर्ण कर लिया जायेगा। जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा बताया गया कि गर्ल्स हास्टल सांगीपुर हेतु धनराशि प्राप्त हो गयी है जल्द से जल्द कार्य पूर्ण किया जायेगा। नोडल अधिकारी ने स्टेडियम के निर्माण के सम्बन्ध में जानकारी ली तो बताया गया कि 03 स्टेडियम का निर्माण कार्य चल रहा है जो नवम्बर तक पूर्ण कर लिया जायेगा। ग्रामीण अभियन्त्रण विभाग द्वारा कराये जा रहे निर्माण कार्यो में कुछ कमियां पायी गयी जिस पर नोडल अधिकारी ने अधिशासी अभियन्ता ग्रामीण अभियन्त्रण विभाग को कड़े शब्दों में निर्देशित करते हुये कहा कि निर्माण कार्यो में जो भी कमियां है उन्हें दुरूस्त किया जाये अन्यथा की स्थिति कड़ी कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी। जनपद में 13 सेतुओं के निर्माण की स्थिति के सम्बन्ध में नोडल अधिकारी ने जानकारी प्राप्त की और निर्देशित किया कि सेतुओं का निर्माण कार्य निर्धारित समयावधि में अवश्य पूर्ण कर लिया जाये। नोडल अधिकारी ने जनपद में हो रहे अन्य निर्माण कार्यो के सम्बन्ध में अधिकारियों से विस्तृत जानकारी प्राप्त की। समीक्षा बैठक के दौरान नोडल अधिकारी ने उपस्थित अधिकारियों एवं कार्यदायी संस्था के प्रतिनिधियों को निर्देशित करते हुये कहा कि जिन परियोजनाओं के निर्माण कार्य हेतु धनराशि शत् प्रतिशत प्राप्त हो गयी हो उन परियोजनाओं का कार्य निश्चित समय अवधि के अन्तर्गत कार्यदायी संस्थायें पूर्ण कराना सुनिश्चित करें। उन्होने सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया कि शासन की गाइडलाइन के अनुसार निर्माणाधीन कार्यो को गुणवत्तायुक्त एवं समय सीमा के अन्दर पूर्ण किये जाये। निर्माणाधीन परियोजनाओं के अन्तर्गत जो भी कार्य कराये जा रहे है उसके कार्य की गुणवत्ता व मानक की निगरानी वह समय-समय पर स्वयं करें व जांच टीम बनाकर भी उसकी गुणवत्ता की जांच करने के पश्चात् ही उनके भुगतान की प्रक्रिया सुनिश्चित करायें और जिन कार्यो को पूर्ण कराने में बजट की आवश्यकता हो उसके लिये तत्काल प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा जाये जिससे कि जो कार्य बजट के अभाव में बाधित है उस कार्य को समयबद्धता के साथ पूर्ण कराया जाये।