छः दिवसीय मशरूम उत्पादन प्रशिक्षण सम्पन्न

सहारनपुर। औद्यानिक प्रयोग एवं प्रशिक्षण केन्द्र पर कृषकों , बागवानों, शिक्षित बेरोजगारों एवं महिलाओं को स्वरोजगार के लिए जागरूक करने के उद्देश्य से मशरूम उत्पादन के लिए छः दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षणोपरान्त प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र भी वितरित किये गये।

औद्यानिक प्रयोग एवं प्रशिक्षण केन्द्र के संयुक्त निदेशक श्री भानु प्रकाश राम ने आज यहां यह जानकारी दी। उन्होने बताया कि मशरूम का उपयोग भोजन एवं औषधि के रूप में किया जाता है। मशरूम की आजार में बढ़ती मांग को देखते हुए किसानों के लिए यह लाभकारी फसल है। उन्होंने बताया कि मशरूम की लागत से दो से ढाई गुना आमदनी आसानी से प्राप्त हो जाती है। प्रशिक्षण अवधि में बटन, ढिंगरी एवं दूधिया मशरूम के उत्पादन तथा मशरूम में लगने वाले रोग एवं कीट की विस्तार से जानकारी दी गयी। प्रशिक्षण में सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, मेरठ, रूड़की, हरिद्वार से आये प्रशिक्षणार्थियों द्वारा प्रतिभाग किया गया। 

भानु प्रकाश राम ने बताया कि प्रशिक्षण में श्रीमती सुधा सैनी, सीमा, सलोनी, शुभांगी, मितिका सैनी, श्री आमिर, सोहेल, तिलक सिंह, रणधीर सिंह, निशान्त, अमनदीप सहित कुल 46 प्रशिक्षणार्थियों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया। प्रशिक्षण केन्द्र के वैज्ञानिकों डा0 आई0ए0 सिद्दीकी, श्री सुरेश कुमार, श्री अशोक कुमार एवं श्री जय कुमार द्वारा दिया गया। जिला उद्यान अधिकारी श्री अरूण कुमार द्वारा मशरूम उत्पादन के लिए विभाग से प्रदत्त अनुदान सम्बन्धी सुविधाओं की जानकारी दी गयी।