क्या मोदी सरकार तालिबान को आतंकी लिस्ट में शामिल कराएगी: ओवैसी

लखनऊ। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी आज यूपी के दौरे पर हैं। वे आज अयोध्या के रुदौली कस्बे में अपनी चुनावी रैली करने जा रहे हैं। इससे पहले उन्होंने लखनऊ में एक प्रेस वार्ता की। जिसमें प्रयागराज से पूर्व सांसद और बाहुबली अतीक अहमद अंसारी की पत्नी शाइस्ता परवीन ने परिवार के साथ एआईएमआईएम का दामन थाम लिया। इस दौरान ओवैसी ने अतीक अहमद का बचाव अपने अंदाज में किया। उन्होंने कहा, 38ः भाजपा विधायक पर क्रिमनल चार्ज है। 116 सांसदों पर चार्ज है। यहां तक कि उनकी सहयोगी जदयू के 81ः लोगों पर क्रिमनल चार्ज हैं। मार्च में आई एक रिपोर्ट में 77 केसेस जो मुजफ्फरनगर दंगों के मामले थे वो राज्य सरकार ने वापस ले लिए। योगी खुद अपने पर लगे केस को वापस लेते हैं। दरअसल, जिस नेता का नाम प्रज्ञा (प्रज्ञा ठाकुर) या कपिल (कपिल मिश्रा) होगा वह लोकप्रिय नेता होगा। लेकिन जिसका नाम अतीक और मुख्तार होगा, वह बाहुबली होगा। भारत के कानून के हिसाब से किसी भी केस में अतीक पर मामला साबित नहीं हुआ है। ओवैसी ने कहा कि भारत के टैक्स देने वालों के 35 हजार करोड़ रुपए सरकार ने अफगानिस्तान में लगाया। हर साल 800 से 900 अफगानिस्तान वालों को भारत में लाकर डॉक्टर इंजीनियर बनाते हैं। हमने भारत सरकार से पूछते हैं कि क्या तालिबान एक आतंकवादी संगठन है? अगर है तो भारत यूनाइटेड नेशन में कमेटी का सदस्य है, क्या वहां पर भारत उनको आतंकवादी लिस्ट में शामिल करेगा। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) चीफ असदुद्दीन ओवैसी के कार्यक्रम को लेकर अयोध्या में संतों का विरोध जारी है। इस बीच, जगदगुरु परमहंसाचार्य ने ओवैसी को लेकर एक और बड़ा बयान दिया है। परमहंसाचार्य ने कहा कि ओवैसी नफरत की राजनीति करके दूसरा जिन्ना बनना चाह रहे हैं। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान में रहकर हिंदुस्तान को गाली देना बर्दाश्त नहीं होगा। ओवैसी पाकिस्तान जाने की तैयारी कर लें। परमहंसाचार्य ने हिंदुस्तान को हिंदू राष्ट्र घोषित करने की मांग भी कर डाली। बोले, हमारी सरकार से मांग है कि देश के खिलाफ आवाज उठाने वाले मुस्लिमों की नागरिकता समाप्त की जाए।