आजम की रिहाई की मांग बुलंद करेगी सपा

लखनऊ। 2022 में उत्तर प्रदेश में  विधानसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी बीजेपी को कड़ी टक्कर देने को रेडी है। सपा आजम खान को मुक्त करो अभियान, साइकिल यात्रा, बूथ पर कार्यकर्ताओं की तैनाती, मतदाताओं की संख्या को बढ़ाना और व्यापारियों में पैठ,  युवाओं व किसानों को पक्ष में लाने का प्रयास कर रही है। समाजवादी पार्टी जनादेश यात्रा, चलो बूथ के पास चौपाल, किसान नौजवान पटेल यात्रा और संविधान बचाओ संकल्प यात्रा जैसे कई अभियान चला रही है। पार्टी के ‘नई हवा है, नई सपा है, ‘यूपी का ये जनादेश, आ रहे अखिलेश’ और ‘बड़ों का हाथ, युवा का साथ’ जैसे नारे है। सपा का योगी सरकार के खिलाफ मुस्लिम वोटों को लाने, मुस्लिम नेता और रामपुर के सांसद आजम खान की रिहाई अभियान में मुख्घ्य मुद्दा होगी।  अखिलेश यादव आजम खान के परिवार से मिलने रामपुर गए और जौहर यूनिवर्सिटी गए। उन्होंने आजम खान की गिरफ्तारी को राजनीतिक प्रतिशोध बताया है।

सपा ने आजम खान की रिहाई को लेकर विधानसभा अध्यक्ष से संपर्क किया। दिल्ली में समाजवादी पार्टी के सांसद एसटी हसन ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से मिलने के लिए दस अन्य दलों के सांसदों का समर्थन हासिल किया। 14 अगस्त को आजम खान का 73वां जन्मदिन भी इस प्रार्थना के साथ मनाया कि  जल्द ही उनके बीच होंगे आजम खान। पूर्व सांसद और अखिलेश की पत्नी डिंपल यादव और महिला नेता जूही सिंह महिलाओं के बीच अभियान किचला रही है। बीजेपी द्वारा बंद की जा रही सपा सरकार की योजनाएं जैसे कन्याधन योजना, हाथरस जैसी  घटनाएं जो डर पैदा कर रही हैं और एलपीजी सिलेंडर की कीमतों में बढ़ोतरी सबको बता रही हैं। पिछड़ा वर्ग की बैठके शुरू है। फूलन देवी के गांव  शुरुआत हुई। सपा जातीय जनगणना और आरक्षण की सीमा को 50 फीसदी से बढ़ाए जाने का मामला तेज किये हैं। कृषि कानूनों और गन्ना खरीद की कीमतों को लेकर सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने किसानों और युवाओं के समर्थन में पार्टी की ओर से किसान नौजवान पटेल यात्रा पर हैं।