बज्मे समर की ओर से एक मुशायरे का आयोजन

बिसवां नगर (सीतापुर)। शिक्षक दिवस के अवसर पर नगर के लहरपुर रोड पर स्थित मदरसा तालीमुल कुरआन जूनियर हाई स्कूल में बजमे समर की ओर से एक मुशायरे का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता वरिष्ठ शायर आकिल बिस्वानी ने की एवं संचालन पत्रकार नय्यर शकेब ने की। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में शायर रहबर प्रतापगढ़ी ने पढ़ा कि सुरखुरुई दो आलम की। हिस्से में लो कद्र उस्ताद की तुम भी दिल से करो। शायर सागर बिस्वानी ने पड़ा फर्क बातिल और हक में हो गया। नूर जब मुझको मिला उस्ताद से शायर नय्यर शकेब ने पड़ा कि एक नेमत है। तुम्हारे वास्ते जो भी मिलता है तुम्हे उस्ताद से, उस्ताद ही से हमको मिला दरसे आ गही। हमने उसे ही नय्यरे ताँबा बना लिया। सलीम बिस्वानी ने पड़ा कि हर किसी को बात ये मालूम होना चाहिए बाद माँ और बाप के उस्ताद का है मर्तबा। कार्यक्रम में वरिष्ठ शायर आकिल बिस्वानी, साहिल बिस्वानी, हलीम महराजनगरी, मुजीब बिसवानी, शोएब  बिसवानी, आसिफ बिसवानी, मन्नान बिसवानी आदि ने भी शिक्षक के महत्व पर प्रकाश डालते अपनी रचनाएं प्रस्तुत की। इस अवसर पर डॉ रफी, इकराम अंसारी, आमिर खान, आसिफ  बिस्वानी, उवेस सिद्दीकी आदि लोग मौजूद रहे।