स्वास्थ्य केंद्र की लापरवाही से गई नवजात शिशु की जान

पवई-आज़मगढ़। पवई विकासखंड में स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर अनियमितता एवं लापरवाही के कारण एक नवजात शिशु को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा बताते चले  की पवई विकासखंड में स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर शशि शर्मा पुत्री पुण्यमासी शर्मा अपने मायके ग्राम सौदमा ,पवई, आज़मगढ़ में रहती है पीड़िता द्वारा बताया गया वह 22 सितम्बर को एक बच्चे को जन्म दी थी । जिसकी ताबियत 25 सितंबर रात्रि के 1 बजे  खराब हो गयी उसके बाद आनन-फानन में 108 न0 पर फ़ोन कर एम्बुलेंस बुलाया गया और 3:30 बजे सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पवई ले जाया गया जंहा पीडिता द्वारा बताया गया उस अस्पताल में कोई डॉक्टर, नर्स या अन्य कर्मचारी उपस्थित नही था इसके बाद एम्बुलेंस ड्राइवर के माध्यम से वह डॉक्टर के आवास पर पहुंची और दरवाजा खटखटाया लेकिन खुला नही फिर वह डॉक्टर नितिन यादव को फ़ोन की लेकिन फ़ोन नही उठा। इसके बाद काफी फ़ोन करने के बाद सी एच सी अधीक्षक ने फ़ोन उठाया और टेक्नीशियन और नर्स को उठाया पीड़िता ने बताया नर्स आने के बाद लापरवाही से उचित समय पर इलाज नहीं की और जब उसका उपचार शुरू की तो पता चला की उसकी मौत हो गयी है।

जिसके बाद परिजनों में कोहराम मच गया है पीड़िता ने बताया की लापरवाही बरतने के कारण उसके बच्चे की जान गई है अगर उसे सही समय पर उपचार मिल जाता तो वह बच सकता है और वह सामुदायिक केन्द्र कर्मियो ,अधिकारी, डॉक्टर, और नर्स सभी के खिलाफ आरोप लगा रही है और प्रशासन से न्याय की गुहार लगा रही है जिसमे उनके साथ किसान नेता लक्ष्मीकांत मिश्रा, उमाकांत मिश्रा ,इंद्रनाथ मिश्रा सियाराम,बैकुण्ठ नाथ , आदि लोगो ने लापरवाही में शामिल किसी भी व्यक्ति विशेष को छोड़ा न जाये।