राप्ती मुख्य नहर के समस्त गैप समाप्त, नहर हुई निरंतर

 गोंडा । पिछले 40 वर्षों से चल रही सरयू नहर परियोजना के पूर्ण होने की आशा बढ़ गयी है। इस परियोजना के तृतीय चरण में निर्माणाधिन राप्ती मुख्य नहर में स्थित चिरप्रतीक्षित गैप को कल दिनाक 28 अगस्त को प्रशासन के। सहयोग से खुदवा दी गयी है। दरअसल जनपद बलरामपुर के तहसील तुलसीपुर अंतर्गत ग्राम लक्ष्मीनगर में 1.197 हेक्टेयर भूमि का बैनामा किसान की असहमति और अत्यधिक मुवावजे की मांग के कारण नही हो पाया और 126 किलोमीटर की मुख्य नहर में गैप बना हुआ था। सरयू परियोजना का लोकार्पण माह अक्टूबर में प्रस्तावित है। अति महत्वकांक्षी इस राष्ट्रीय परियोजना को पूर्ण करने हेतु जल शक्ति मंत्री श्री महेंद्र सिंह द्वारा दिए गए निर्देश के बाद माह जनवरी में अपर मुख्य सचिव  सिंचाई एवम जल संसाधन श्री टी वेंकटेश द्वरा जनपद के दौर किया गया था। जिला प्रशासन परियोजना हेतु सिंचाई विभाग की पूर्ण सहायता करने के निर्देश दिए गए थे। मुख्य अभियंता सरयू परियोजना 2 श्री राकेश कुमार के अथक प्रयासों के पश्चात उक्त भूमि का अधिग्रहण सम्भव हुआ । दिनाक 28 अगस्त को इसका अधिकार पत्र राप्ती मुख्य नहर निर्माण खंड 2 शोहरतगढ़ को विशेष भू अध्यपति अधिकारी गोण्डा/बलरामपुर द्वारा दिया गया। तत्काल बड़ी संख्या में पोकलेन लगाकर एक दिन में ही लगभग 200 मीटर की लंबाई में नहर का निर्माण करवाया दिया गया। यह इस परियोजना के लिए अति महत्वपूर्ण कदम है जिसके पश्चात अब पूरी नहर आपस में जुड़ गई है। अधिशासी अभियंता श्री दिनेश कुमार ने बताया कि इस बार हुई भारी बरसात के कारण ग्रामीणों द्वारा नहरों की पटरियां काट कर बरसाती पानी की इनलेटिंग नहरों में कर दी गयी है। साथ ही नहरों पर रेन कट्स हो गए हैं। बरसात बाद इनको दुरुस्त करवाते हुए लोकार्पण के लिए तैयार करवा लिया जाएगा। पूरी पति नहर के आपस में जुड़ जाने से विभाग और क्षेत्र में हर्ष का माहौल है।