IND vs ENG: पहले दिन के खेल के बाद मोहम्मद शमी ने बताया किस तरह से बजाई इंग्लिश बल्लेबाजों की बैंड

इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की सीरीज के पहले टेस्ट मैच का पहला दिन पूरी तरह से भारतीय तेज गेंदबाजों के नाम रहा। चारों तेज गेंदबाजों ने मिलकर इंग्लैंड की पूरी टीम को 183 रनों पर समेट दिया। जसप्रीत बुमराह ने चार जबकि मोहम्मद शमी ने तीन विकेट झटके। पहले दिन के खेल के बाद शमी ने बताया कि किस तरह से उन्होंने इंग्लिश बल्लेबाजों की बैंड बजाई। शमी ने कहा कि उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह कहां खेल रहे हैं और वह किसी भी तरह की परिस्थितियों में अपने कौशल पर विश्वास करते हैं।

शमी ने दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा, 'मुझे नहीं पता कि मैं इंग्लैंड में विकेट क्यों हासिल नहीं कर पाता (हंसते हुए)। लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया या कहीं और खेल रहा हूं, मैं अपने कौशल पर भरोसा करता हूं।' उन्होंने कहा, 'यहां तक कि जब मैं नेट्स पर गेंदबाजी कर रहा था तब भी हालात को परखने की कोशिश कर रहा था और इसी के हिसाब से प्लान बनाया। इसके बाद मैच में इसे लागू करने की कोशिश की।' इंग्लैंड के कप्तान जो रूट का पहले बल्लेबाजी करने का फैसला उलटा पड़ गया और बुमराह (46 रन पर चार विकेट) की अगुवाई में भारतीय तेज गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया।

शमी ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट धैर्य और अपने बेसिक्स सही रखने का खेल है। उन्होंने कहा, 'टेस्ट मैच धैर्य का खेल है। भूल जाओ कि पहले क्या हुआ है, हमें वर्तमान स्थिति के बारे में सोचना होता है, हमें अधिक दिमाह नहीं लगाना होता।'  शमी ने कहा, 'मेरे नजरिए से टेस्ट मैचों में सामान्य सी बात है, आप जितना अधिक अपने बेसिक्स पर ध्यान दोगे उतना अधिक आपके सफल होने की संभावना होगी। अगर आप जरूरत से ज्यादा सोचोगे तो आप रन लुटाओगे और गैरजरूरी दबाव बनेगा।'