IND vs ENG: भारतीय पेस अटैक के कायल हुए इंग्लिश कप्तान जो रूट

पिछले कुछ सालों से भारतीय टीम के बॉलिंग अटैक में जबरदस्त सुधार हुआ है, खासकर फास्ट बॉलिंग डिपार्टमेंट में। मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह, ईशांत शर्मा और मोहम्मद सिराज की चौकड़ी सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया की बेस्ट बॉलिंग यूनिट के तौर पर उभरकर सामने आई है। इस चौकड़ी का ही कमाल था, जिसकी वजह से टीम इंडिया ने इंग्लैंड को ऐतिहासिक लॉर्ड्स मैदान पर हार की स्थिति में होने के बावजूद 151 रनों से धूल चटा दी। इस प्रदर्शन के बाद इस बॉलिंग अटैक को दुनियाभर के लोगों ने सराहा, लेकिन अगर उन्हें यहां खुद इंग्लिश कप्तान जो रूट से तारीफ मिलती है, तो यह अपने आप में बड़ी बात है।

लीड्स में होने वाले तीसरे टेस्ट से पहले रूट ने वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में भारतीय तेज गेंदबाजों की जमकर तारीफ करते हुए कहा कि, 'उन्होंने इंग्लैंड की परिस्थितियों का पूरी तरह से फायदा उठाया। उनके पास एक शानदार बॉलिंग अटैक है। टेस्ट क्रिकेट को देखें तो उनकी टीम के पास शानदार गेंदबाजों की यूनिट है। उनकी गेंदबाजी इंग्लैंड की परिस्थितियों के अनुकूल है और उन्होंने परिस्थितियों को बहुत अच्छी तरह से एडजस्ट किया है।'

उन्होंने कहा कि, 'भारत ने इस टेस्ट सीरीज में शानदार खेल दिखाया है और हमें उनको जवाब देने के लिए काफी स्मार्ट होना पड़ेगा, साथ ही स्कोरबोर्ड पर बड़ा स्कोर टांगकर उन्हें वापस दवाब में लाना होगा। मुझे लगता है कि उनके पास एक चीज है कि उनके पास एक अच्छा बैलेंस है, साथ ही अलग-अलग रिलीज प्वॉइंट्स भी हैं।' इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में रूट ने माना कि टीम को स्लेजिंग में नहीं पड़ना चाहिए था।

रूट ने कहा है उनकी टीम ने पिछले मुकाबले से सबक सीखा है और आगे वह अनावश्यक रूप से किसी बहस में शामिल नहीं होगी। उन्होंने कहा कि, 'खेल के दौरान स्थिति थिएटर जैसी हो गई थी। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हम जिस तरह से खेलना चाहते हैं, उसी तरह से खेलें और हम जितना हो सके उस पर नियंत्रण रखें। हमें खुद के प्रति ईमानदार होना चाहिए, हमें इस बात पर ध्यान देना होगा कि हम एक व्यक्ति और सामूहिक रूप से कैसा व्यवहार कर रहे हैं। यह जितना हो सके उतना अच्छा होना चाहिए।'