परिवार पर कथित जातिवादी तानों पर वंदना ने कहा, पुलिस जांच कर रही है, टिप्पणी नहीं करना चाहती

भारतीय महिला हॉकी टीम की फारवर्ड वंदना कटारिया ने ओलंपिक सेमीफाइनल में अर्जेंटीना के खिलाफ हार के बाद उनके परिवार के खिलाफ की गयी कथित जातिवादी टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया करने से इन्कार करते हुए कहा कि पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। सिडकुल पुलिस स्टेशन के एक अधिकारी ने बताया कि भारतीय टीम की बुधवार को सेमीफाइनल में अर्जेंटीना के हाथों हार के बाद दो व्यक्ति हरिद्वार के रोशनाबाद क्षेत्र में स्थित वंदना के घर के आगे उपहास उड़ाने के लिये नाचने लगे और उन्होंने आतिशबाजी भी की। अधिकारी ने बताया कि जब कटारिया के परिवार के कुछ लोग शोर सुनकर बाहर आये तो इन दोनों ने उनके लिये जातीय टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि टीम इसलिए हारी क्योंकि उसमें बहुत अधिक दलित खिलाड़ी थे।

कटारिया ने कांस्य पदक के मैच में टीम की ग्रेट ब्रिटेन के हाथों 3-4 से हार के बाद कहा, ‘‘मैं इस मामले में टिप्पणी नहीं करना चाहती हूं। मैंने इस बारे में सुना है। मैंने अपने परिवार से बात की और उन्होंने कहा कि सब कुछ ठीक है। पुलिस इसकी जांच कर रही है।’’इन दोनों व्यक्तियों और वंदना के परिवार के बीच बहस के बाद इस हॉकी खिलाड़ी के भाई ने पुलिस में शिकायत दर्ज करायी थी जिसके बाद एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है।

अधिकारी ने कहा कि गिरफ्तार किये गये व्यक्ति की पहचान विजयपाल के रूप में की गयी है। उस पर भारतीय दंड संहिता और एससी एसटी अधिनियम की धारा 504 (शांतिभंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान करना) के तहत मामला दर्ज किया गया है।